आसनसोल हिंसा का जायजा लेने के लिए शाह ने बनाई 4 सदस्यों की कमेटी

- in राष्ट्रीय

पश्चिम बंगाल में रामनवमी के दिन से भड़की सांप्रदायिक हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आसनसोल दंगे को दर्दनाक और दुर्भाग्यपूर्ण बताया. दंगे की जांच के लिए चार सदस्यीय कमेटी बनाई है, जो बकायदा हिंसाग्रस्त आसनसोल जाकर वहां लोगों से बात करेंगे. इसके बाद कमेटी बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को अपनी रिपोर्ट सौपेंगे.

बीजेपी की चार सदस्यीय कमेटी

बीजेपी अध्यक्ष द्वारा बनाई गई कमेटी में पार्टी के वरिष्ठ नेता ओम माथुर, रूपा गांगुली, शाहनवाज हुसैन और बीडी राम शामिल है. बीजेपी के ये चार नेता पश्चिम बंगाल के हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में जाकर लोगों से बात करेंगे और रिपोर्ट पार्टी आलाकमान को सौपेंगे. पश्चिम बंगाल के आसनसोल, रानीगंज, बर्धमान समेत कई जगहों पर अभी भी हालात ठीक नहीं हैं.

ऐसे भड़की हिंसा

बता दें कि पश्चिम बंगाल में रामनवमी की शोभायात्रा निकाले जाने के दौरान हिंसा हुई थी. हिंसा की आग आसनसोल, मुर्शिदाबाद और बर्द्धमान जिलों में भी भड़की. कई जगहों पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया तो हिंदूवादी संगठनों ने भी पुलिस टीम पर हमला कर दिया. ऐसी ही एक झड़प के दौरान पुलिस टीम के ऊपर बम फेंका गया, जिसमें एक पुलिस अधिकारी के हाथों की उंगलियां उड़ गईं.

हिंदू धर्म को कमजोर करने की ये कोशिश घातक: मोहन भागवत

औरंगाबाद शहर के जामा मस्जिद इलाके से रामनवमी का जुलूस निकल रहा था. जुलूस में शामिल लोग डीजे पर नाच रहे थे. हाथों में लाठी और डंडे लहरा रहे थे. फिर कथित तौर पर इस जुलूस पर पथराव हुआ और फिर हिंसा भड़क गई. तीन दर्जन से ज्यादा दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया. सड़क पर गाड़ियों को आग लगा दी गई. पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ गया. आंसू गैस के गोले छोड़कर भीड़ को काबू करने की कोशिश हुई.

लेकिन इसके बावजूद कम से कम दस लोग घायल हो गए. तीन लोगों को गोली लगी. एक की हालत गंभीर है. घायलों में दोनों संप्रदायों के लोग मौजूद हैं. पुलिस ने इस हिंसा के लिए दोनों पक्षों के तकरीबन 150 लोगों को गिरफ्तार किया है.

 

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी