हफ्ते भर पहले उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा सेक्टर में सुरक्षबलों के साथ हुई मुठभेड़ में मारे गए पांचों आतंकियों का अब डीएनए टेस्ट होगा।इन आतंकियों को सुरक्षाबलों ने उस वक्त मार गिराया था, जब ये पीओके से भारत में घुसपैठ कर रहे थे। मारे गए आतंकियों में दो दक्षिण कश्मीर के कुलगाम और पुलवामा जिले के बताए जाते हैं। उनके परिजनों ने पुलिस से शवों को उनके हवाले किए जाने की मांग की है। हालांकि पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए आतंकियों के शवों का डीएनए टेस्ट करने का फैसला किया है।

कुलगाम और पुलवामा में तनाव फैला

इस बीच तंगधार में मारे गए पांच आतंकियों में से दो के स्थानीय होने की खबर फैलने के साथ ही कुलगाम और पुलवामा में तनाव फैल गया। शरारती तत्वों ने जुलूस निकालते हुए सुरक्षाबलों पर पथराव किया। स्थिति को काबू करने के लिए सुरक्षा बलों को बल प्रयोग करना पड़ा।

26 मई को घुसपैठ के दौरान मारे गए आतंकी

गौरतलब है कि 26 मई को तंगधार सेक्टर में सेना ने घुसपैठ का प्रयास कर रहे पांच आतंकियों को मार गिराया था। संबंधित अधिकारियों ने बताया कि, मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों की सार्वजनिक की गई तस्वीरों को दक्षिण कश्मीर में परिगाम, कुलगाम और लाजूरा पुलवामा के लोगों ने भी देखा। लाजूरा के एक परिवार ने बताया कि मृतकों में शामिल एक आतंकी उनका बेटा शिराज अहमद शेख है, जबकि परिगाम वालों ने दावा किया कि एक अन्य आतंकी मुदस्सर अहमद है।

अब सरकारी टीचर्स ड्यूटी के दौरान नहीं कर सकेंगे मोबाइल का इस्तेमाल

शिराज अहमद सितंबर, 2017 को लापता होने के बाद आतंकी बना था, जबकि मुदस्सर जुलाई 2016 में आतंकी बुरहान की मौत के बाद घर से भागकर आतंकियों से जा मिला था। परिवारों द्वारा तंगधार मुठभेड़ में मारे गए दो आतंकियों को अपना परिजन बताए जाने के बाद पुलिस अधिकारियों का दल जिला कुपवाड़ा के लिए रवाना किया गया है, जो मुठभेड़ का सारा ब्योरा और मारे गए आतंकियों के बारे में अन्य जानकारी लेगा। इसके साथ शवों को कब्र से निकलवा कर उनके डीएनए जांच की प्रक्रिया को भी पूरा करेगा।

एसएसपी, कुपवाड़ा अंबरकर श्रीराम दिनकर ने बताया कि,” हम संबंधित प्रशासन ने अनुमित प्राप्त कर मारे गए आतंकियों के शवों को कब्र से निकलवा उनके डीएनए जांच कराएंगे।”