मूडीज के अनुसार: तेल की बढ़ती कीमतों के कारण लक्ष्य से पार जा सकता है भारत का राजकोषीय घाटा

- in कारोबार

क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने अनुमान जताया है कि चालू वित्त वर्ष में भारत का राजकोषीय घाटा 3.3 फीसद के लक्ष्य को पार कर सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि तेल की लगातार बढ़ रही कीमतें अल्प अवधि में वित्तीय दबाव उत्पन्न करेंगी।मूडीज के अनुसार: तेल की बढ़ती कीमतों के कारण लक्ष्य से पार जा सकता है भारत का राजकोषीय घाटा

सरकार ने मार्च 2019 तक चलने वाले चालू वित्त वर्ष के लिए राजकोषीय घाटे का बजटीय लक्ष्य जीडीपी के अनुपात में 3.3 फीसद रखा है। चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही के दौरान राजकोषीय घाटा 68.7 फीसद तक पहुंच गया है।

इसके तेल की ऊंची कीमतों और मजबूत गैर-तेल आयात मांग से प्रेरित होने पर भी मूडीज की उम्मीद है कि मार्च 2019 को समाप्त होने वाले वित्तीय वर्ष में चालू खाता घाटा सकल घरेलू उत्पाद का 2.5 फीसद तक बढ़ जाएगा। यह साल 2018 में 1.5 फीसद रहा है। मूडीज के वाइस प्रेसिडेंट और सीनियर एनालिस्ट जॉय रंकोथगे ने बताया कि तेल की ऊंची कीमतें और उच्च ब्याज दरें सरकार के बजट पर दबाव बनाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अरुण जेटली ने कहा- NBFC में तरलता बनाए रखने के लिए हर संभव कदम उठाएगी सरकार

निवेशकों की चिंता को कम करने के लिहाज