पंजाब ने अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई के लिए बनायीं ये बड़ी योजना

चंडीगढ़। पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने महानगरों में हो रहे अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई के लिए फ्लाइंग स्कवॉड तैयार की है। उन्होंने निकाय विभाग के छह अधिकारियों को टीम में शामिल कर कार्रवाई की रणनीति को गुप्त रखने का आदेश दिया है। टीम में निकाय विभाग के डायरेक्टर के अलावा तीन चीफ इंजीनियर्स को शामिल किया गया है।पंजाब ने अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई के लिए बनायीं ये बड़ी योजना

टीम के साथ मंत्री खुद भी मौके पर जाएंगे, रणनीति गुप्त रखने के आदेश

जालंधर में हुई कार्रवाई में टीम के सभी सदस्यों को सिद्धू ने सुबह सात बजे अपनी कोठी पर बुला लिया था। इसके बाद गाडिय़ों में बैठकर सिद्धू चंडीगढ़ से लाव-लश्कर के साथ निकल पड़े थे। टीम के सदस्यों को इस बारे में भनक तक नहीं थी कि  सिद्धू उन्हें कहां लेकर जा रहे हैं। बार-बार पूछने के बाद सिद्धू ने अधिकारियों को इतनी ही जानकारी दी थी कि उन्हें सरप्राइज देना है।

निकाय विभाग के डायरेक्टर के अलावा तीन चीफ इंजीनियर्स भी टीम में

सिद्धू की गाड़ी का पीछे-पीछे जब अधिकारी कुराली रोड पर पहुंचे तो उन्होंने सोचा कि शायद खरड़ में सिद्धू कोकिसी साइट का दौरा करना है। इसके बाद जब गाडिय़ां कुराली से रोपड़ की तरफ मुड़ीं तो अधिकारियों को अंदेशा हुआ कि जालंधर या अमृतसर जाने की तैयारी है। इसी बीच, सिद्धू की तरफ से आदेश आया कि जालंधर में डिच मशीनों का इंतजाम करवा लिया जाए। तब तक सिद्धू की टीम फगवाड़ा पहुंच चुकी थी। टीम को कार्रवाई के बारे में सिद्धू ने मौके पर जाकर ही जानकारी दी।

सिद्धू की कोशिश थी कि अपने अधीन काम कर रहे अधिकारियों को भी यह समझा दिया जाए कि ऐसा नहीं है कि उनके पास सूचनाएं नहीं पहुंच रही हैं और निगम में तैनात अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करके स्पष्ट संकेत दे दिए जाएं। अब मिलीभगत व लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जालंधर में कार्रवाई कर लौटने के बाद सिद्धू ने उसी टीम को फ्लाइंग स्क्वॉड में बनाकर उसे सारे अवैध निर्माणों पर नजर रखने के आदेश दिए।

जालंधर को 15 दिन का टाइम, फिर गिराई जाएंगी इमारतें

सिद्धू ने अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई रोकने को लेकर मिलने आए जालंधर के सांसद संतोष चौधरी, विधायक राजिंदर बेरी, अवतार सिंह जूनियर और मेयर जगदीश राजा से मुलाकात की। कांग्रेसी नेताओं की मांग पर सिद्धू ने मेयर को 15 दिन का टाइम दिया। सिद्धू ने कहा कि 15 दिन में जालंधर के सभी अवैध निर्माण व कॉलोनियों को कंपाउंड करवा कर फीस जमा करवाई जाए।

सिद्धू ने कहा कि अगर अवैध निर्माण कंपाउंड करवाने वाला नहीं है, तो उनके खिलाफ कार्रवाई कर उन्हें गिराया जाए। जो इमारतें कंपाउंड नहीं होती उन्हें सील किया जाए। जालंधर में कार्रवाई का कांग्रेस विधायक सुशील रिकू, राजिंदर बेरी व जूनियर अवतार हैनरी बाबा ने विरोध किया था। मंगलवार को सांसद संतोष चौधरी के नेतृत्व में चारों विधायकों, मेयर व निगम कमिश्नर की बैठक हुई थी। बैठक में सभी ने तय किया था कि सिद्धू से मुलाकात कर कारवाई रोकने की मांग की जाए।

बैठक में नहीं आए रिंकू

सिद्धू के साथ बैठक में विधायक सुशील रिंकू नहीं आए। सिद्धू व रिंकू इस मामले में आमने-सामने हो गए थे, जबकि परगट सिंह को सियासी विरोध का सामना करना पड़ा था।

निगम कमिश्नर पर गिर सकती है गाज

सिद्धू के टारगेट पर निगम कमिश्नर भी हैं। आने वाले दिनों में अवैध निर्माण को लेकर निगम कमिश्नर के खिलाफ सिद्धू बड़ी कार्रवाई कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जवानों की हत्या को लेकर केजरीवाल ने PM मोदी से मांगा जवाब

बीएसएफ जवान नरेंद्र सिंह की शहादत के बाद