अमेरिका के साथ पाकिस्तान कर रहा है बदले की राजनीति

अमेरिका और पाकिस्तान के बिच कई दिनों से राजनयिक विवाद चल रहा है. इसी बिच पाकिस्तान ने अमेरिकी राजनयिकों पर ठीक वैसे नियम लगा दिए है जो अमेरिका ने पाकिस्तानी राजनयिकों पर लगाए हुए है. अमेरिका में पाकिस्तानी राजनयिकों के आने जाने पर कई तरह की पाबंदियां लगाई गई हैं. खासकर पाकिस्तानी राजनियकों को दूतावास या वाणिज्य दूतावासों से 25 मील के दायरे से बाहर जाने के लिए अमेरिकी अधिकारियों की इजाजत लेना जरुरी होगा. 

बता दें कि इसके जबाव में, ठीक वैसी ही पाबंदियां पाकिस्तान ने अपने यहां मौजूद अमेरिकी राजनयिकों पर लगा रखी है. लेकिन पाकिस्तान के ही कुछ अखबारों ने सवाल उठाया है कि क्या पाकिस्तान में इतना दम है कि वह अमेरिका की नाराजगी झेल सके, वह भी ऐसे समय में, जब ईरान के खिलाफ अमेरिका नए सिरे से कड़े प्रतिबंध लगाने जा रहा है और भारत के साथ उसकी साझेदारी पहले से ज़यादा अच्छी हो रही है.

परवेज मुशर्रफ ने नवाज शरीफ पर कसा तंज, कहा- कारगिल से सेना पीछे हटाने के लिए शरीफ को बताया जिम्मेदार

यहाँ का एक पेपर कहता है कि अमेरिका में पाकिस्तानी राजनियकों पर पाबंदियां बदले की कार्रवाई के तहत लगाई गईं है क्योंकि 22 साल के एक पाकिस्तानी युवक को अपनी गाड़ी से कुचलने वाले अमेरिकी राजनयिक कर्नल जोसेफ के पाकिस्तान से बाहर जाने पर रोक लगा दी गई है. अखबार के मुताबिक अब देखना है कि पाकिस्तान सरकार कब तक अपने फैसले पर कायम रहते हुए अमेरिकी दबाव के सामने खड़ी रह पाती है.

=>
=>
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

सिंगापुर शिखर वार्ता की तैयारियों के लिए उत्तर कोरिया पहुंचा अमेरिकी प्रतिनिधि मंडल

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि