केरल में लाल रंग की बारिश की खूली पाेल, सच्चाई है कुछ एेसी…

जिस दिन केरल में लाल बारिश/ Red rain देखी गई थी ठीक उसी दिन वहां के लोगो ने हरे और पीले रंग की बारिश भी देखी थी जिससे पहले वैज्ञानिको को ये लगा की ये असमान से रंग बिरंगा पानी बरसना कोई बड़ी बात नहीं है। यह बारिश और प्रदूषण की वजह से हुआ होगा। लेकिन जैसे ही इस पानी को टेस्ट किया गया तो सबके होश उड़ गए। टेस्ट में पाया गया कि ये सिर्फ पानी नहीं था, इस पानी में जीवन होने के साक्ष्य मिले थे।

फिर हुई डीएनए की जांच 

– पानी में जीवन के साक्ष्य मिलने के बाद लगा कि अगर ये खून है तो इसमें डीएनए भी होगा। वैज्ञानिकों ने उसमें डीएनए तलाशने की कोशिश की पर वो असफल रहे।

ट्रेन को पहुंचना था नई दिल्ली, पहुंच गई पुरानी दिल्ली, जानें पूरा मामला..

तो किसका खून था ये 

– जब इस लाल बारिश को लेकर 2012 में फिर जांच की गई तो सैंपल में साइंटिस्ट् को छ डीएनए के सैंपल दिखाई देने लगे। सके बाद अन्तराष्ट्रीय स्तर पर एक बहस भी शुरू हो गई और दावा किया जाने लगा कि इसका संबंध एलियंस से हो सकता है। हालांकि, अब भी ये साफ नहीं है कि बारिश क्यों और कैसे हुई थी।

You may also like

सुप्रीम कोर्ट: मोबाइल-बैंक खातों से आधार जोड़ना गलत, सरकार ने नहीं की तैयारी

आधार कार्ड की अनिवार्यता को लेकर सुप्रीम कोर्ट के पांच