यह जानना जरुरी कि SBI ने आपके अकाउंट से क्यों काटे हैं पैसे?

यदि आपका खाता भी एसबीआई में है तो यह खबर आपके काम की है. पिछले दिनों आपके मोबाइल पर भी बैंक खाते से 147.50 रुपये काटे जाने का मैसेज आया होगा. लेकिन उस समय तमाम ग्राहकों को समझ में नहीं आया कि आखिर देश के सबसे बड़े बैंक की तरफ से यह रकम क्यों काटी गई. इस बारे में बैंक ने भी मैसेज में भी यह जानकारी नहीं दी थी कि आखिर 147.50 रुपये को क्यों काटा गया. सोशल मीडिया के साथ ही कई ऑनलाइन फोरम भी ग्राहकों ने इसको लेकर अपनी शिकायत दर्ज कराई थी. इस शिकायत में उन्होंने यह जानकारी मांगी कि आखिर पैसे क्यों काटे गए.

यह जानना जरुरी कि SBI ने आपके अकाउंट से क्यों काटे हैं पैसे?

एटीएम का एनुएल चार्ज
इसके अलावा लोगों ने ट्व‍िटर पर SBI को टैग करके भी इस बारे में जानकारी चाही. शायद आपके भी पैसे कटे हो और आपको यह जानकारी न हो कि ये पैसे क्यों काटे गए हैं. इस बारे में जब आप अपना बैंक स्टेटमेंट देखेंगे तो आपको यह साफ हो जाएगा कि यह पैसे किस लिए काटे गए हैं. दरअसल एसबीआई की तरफ से एटीएम के सालाना चार्ज के तौर पर इस रकम की वसूली की गई है. इसमें एनुअल चार्ज के साथ ही जीएसटी भी शामिल है.

PNB महाघोटाले में न फंस जाए सातवें वेतन आयोग का फायदा, जानिए यंहा

अप्रैल 2017 में किया बदलाव
एटीएम चार्ज खाते में से हर साल काटा जाता है, लेकिन इस बार इसे हर साल के मुकाबले ज्यादा काटा गया है. इसका कारण यह है कि अप्रैल 2017 में एसबीआई ने अपनी सेवाओं के लिए सर्विस चार्ज में बदलाव किया है. ऐसे में बैंक की तरफ से एटीएम चार्ज में भी इजाफा किया गया है. बैंक की तरफ से गोल्ड और सिल्वर कार्ड अलग- अलग चार्ज लिए जाते हैं.

125 रुपये हुआ एटीएम चार्ज
आपको बता दें कि इस रकम को बढ़ाकर बैंक की तरफ से 125 रुपये कर दिया गया है. ऐसे में जीएसटी के साथ हर साल आपके अकाउंट से एटीएम चार्ज के तौर पर 147.50 रुपये काटे जाएंगे. अगर आपको लगता है आपके ये चार्ज नहीं कटने चाहिए थे या आपको इस अमाउंट का डिडकश्न बैंक स्टेटमेंट में नहीं दिखाई दे रहा तो आप इसकी शिकायत भी कर सकते हैं.

यहां करें शिकायत
शिकायत के लिए आप कैपिटल लेटर्स में ‘UNHAPPY’ लिखकर 8008202020 पर भेज सकते हैं. साथ ही आप बैंक से ऑनलाइन शिकायत भी कर सकते हैं. शिकायत मिलने के 10 दिन बाद इसका निवारण हो जाएगा. अगर बैंक की तरफ से ऐसा नहीं किया जाता तो आप नोडल ऑफिसर और एसबीआई के चेयरमैन से भी शिकायत कर सकते हैं.

You may also like

सुप्रीम कोर्ट का अयोध्या मामले में इसी हफ्ते आ सकता है ये बड़ा फैसला

अयोध्या राम जन्मभूमि मामले से जुड़े एक अहम केस में