PNB के लिए बहुत दुखद खबर, निवेशकों के करोड़ों डूबे…

मुंबई : देश के सार्वजनिक क्षेत्र के दूसरे सबसे बड़े बैंक पंजाब नेशनल बैंक (PNB) की मुंबई ब्रांच में 1.77 अरब डॉलर (करीब 11,330 करोड़ रुपये) का फर्जीवाड़ा पकड़ में आया है. यह रकम मुंबई की एक ब्रांच से जालसाजी के जरिए अनधिकृत ट्रांजेक्शन से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है. इन ट्रांजेक्शन से कुछ चुनिंदा अकाउंट होल्डर को फायदा पहुंचाया जा रहा था. बैंक तरफ से इस बारे में बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) को इसकी जानकारी दे दी गई है. इस फर्जीवाड़े का असर कुछ दूसरे बैंकों पर भी देखने को मिल सकता है. इस पूरे मामले की जांच बैंक की आंतरिक कमेटी भी कर रही है.

PNB के लिए बहुत दुखद खबर, निवेशकों के करोड़ों डूबे...

पीएनबी का शेयर 8 फीसदी तक टूटा
अभी बैंक की तरफ से इस फर्जीवाड़े में शामिल किसी शख्स का नाम नहीं लिया गया है, लेकिन कहा जा रहा है कि उसने इसके बारे में जांच एजेंसियों को जानकारी दे दी गई है. बैंक की तरफ से कहा गया कि वह बाद में इस बात का आकलन करेगा कि क्या इन ट्रांजेक्शन से उसकी कोई देनदारी तो नहीं बनती है. इस फर्जीवाड़े की जानकारी प्रकाश में आने के बाद पीएनबी का शेयर 8 फीसदी तक टूट गया, जिससे निवेशकों के 3000 करोड़ रुपए डूब गए. बुधवार को शुरुआती कारोबार में पीएनबी का शेयर 5.7% तक गिर गया था.

149 रुपए स्तर पर आया शेयर
पीएनबी में फ्रॉड और अनधिकृत ट्रांजेक्शन की खबर सामने आने के बाद पीएनबी के शेयर में सुबह करीब 11.48 बजे बीएसई पर स्टॉक 7.82 फीसदी टूटकर 149 रुपए के निचले स्तर पर आ गया. हालांकि शेयर में बाद में कुछ रिकवरी देखी गई. गौरतलब है कि पीएनबी पहले से ही इस तरह के फर्जीवाड़े की जांच कर रहा है. पिछले सप्ताह सीबीआई ने कहा था कि उसने पीएनबी की शिकायत पर अरबपति जूलर नीरव मोदी के खिलाफ जांच शुरू की है. दरअसल, पीएनबी ने जूलर और कुछ अन्य पर 4.4 करोड़ डॉलर के फर्जीवाड़े की रिपोर्ट दर्ज कराई थी. यह पता नहीं चल पाया है कि मौजूदा खुलासा इसी मामले से जुड़ा है या इससे अलग है.

SBI खाताधारको के लिए गज़ब की खुशखबरी: अभी के अभी जान लो नहीं तो रह जाएंगे…

अभी तय साफ नहीं हो सका है कि इस फ्रॉड का लिंक इस माह के शुरू में पीएनबी में सामने आए नीरव मोदी केस से तो नहीं है. इससे पहले सीबीआई ने पीएनबी की शिकायत पर अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी, उनके भाई और पत्‍नी व एक बिजनेस पार्टनर के खिलाफ 280 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी में मामला दर्ज किया था. धोखाधड़ी का यह मामला 2017 का है. दरअसल, पीएनबी ने जूलर और कुछ अन्य पर 4.4 करोड़ डॉलर के फर्जीवाड़े की रिपोर्ट दर्ज कराई थी.

You may also like

यूपी कैबिनेट ने लिए कई अहम फैसले, नई धान खरीद नीति मंजूर कर किसानों को दिया तोहफा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता