अमेरिका में लाखों डॉलर के पुराने कॉल सेंटर घोटाला मामले में भारतीय मूल के 21 व्यक्तियों को 20 साल तक की सजा मिली है. यह मामला भारत से चलाए जा रहे एक कॉल सेंटर के जरिए अमेरिका में हजारों लोगों के साथ हुई लाखों डॉलर की धोखाधड़ी से जुड़ा है. अमेरिका के अटॉर्नी जनरल जेफ सेशंस ने कहा कि 21 लोगों को चार से 20 साल तक की सजा दी गई है. कई अन्य आरोपियों को सजा पूरी होने पर भारत भेज दिया जाएगा. 11 हजार अमेरिकियों से करीब 250 करोड़ रुपए से ज्यादा की ठगी करने के मामले में  येे फैैैैसला आया हैै.

सेशंस ने कहा, ”यह मामला वृद्ध लोगों के साथ धोखाधड़ी को रोकने और अमेरिकी लोगों के सबसे असुरक्षित वर्ग को फंसने से बचाने के हमारे प्रयासों का आज तक की तारीख की सबसे बड़ी जीत है.”

बता दें कि अमेरिका में इस मामले का खुलासा होने के बाद भारत के पुणे, नोएडा और गुड़गांव में छापे मारे गए थे. पुणे से तीन, गुड़गांव से चार और नोएडा से एक व्यक्ति को अरेस्ट किया गया था। जांच में पता चला कि पुणे के सेंटर से ही अमेरिका में रहने वाले 11 हजार लोगों को ठगा गया था.

इस मामले में भारत में रह रहे 32 अन्य लोगों और पांच भारतीय कॉल सेंटरों को भी अभियुक्त बनाया गया है. हालांकि, इन्हें अभी सजा नहीं सुनाई गई है. इससे पहले इसी मामले में तीन अन्य भारतीय लोगों को सजा सुनाई जा चुकी है.

ट्रंप ने चीन से आयात पर इतने डॉलर के माल पर टैक्स लगाने पर दिए निर्देश

अभियोजन पक्ष के वकीलों ने कहा कि भारत स्थित कॉल सेंटर विभिन्न टेलीफोन धोखाधड़ी योजनाओं के जरिए बुजुर्गों एवं वैध शरणार्थियों समेत असुरक्षित अमेरिकी नागरिकों को शिकार बनाते हैं. इस मामले में भारत के अहमदाबाद स्थित कॉल सेंटरों से लक्ष्य करके अमेरिकी लोगों को बार- बार फोन कर के धोखेधड़ी वाली योजनाओं में फंसाया गया.