आज का राशिफल और पंचांग: 15 जून 2018 दिन शुक्रवार, जानें क्या सोचा है माता संतोषी ने आपके बारे में

आप सभी का मंगल हो…

।। आज का पञ्चाङ्ग ।।

ऋतु-ग्रीष्म
माह-ज्येष्ठ
पक्ष-शुक्ल
तिथि-द्वितीया
सूर्य-उत्तरायण
सूर्योदय-05:12
सूर्यास्त-06:48
राहूकाल(अशुभमुहूर्त)दोपहर10:30 से 12:00तक
दिशाशूल-पश्चिम
शुभदिशा-पूर्व
अमृतमुहूर्त-प्रातः08:52 से 10:37 तकआज का राशिफल और पंचांग: 15 जून 2018 दिन शुक्रवार, जानें क्या सोचा है माता संतोषी ने आपके बारे में

।। आज का राशिफल ।।

मेष:-
आज विचारों की गतिशीलता से दुविधा का अनुभव हो सकता है। आज का दिन आपके लिए नौकरी-धंधे के क्षेत्र में स्पर्धायुक्त रहेगा, और उस में से बाहर आने की कोशिश करते रहेंगे। व्यापार उत्तम रहेगा, पारिवारिक वातावरण सामान्य रहेगा।
राशिरत्न:-मूँगा

वृषभ:-
आज आप मानसिक रूप से प्रसन्नता में रहेंगे। आपका विनोदी स्वभाव को आज आपको ख्याति दिलाएगा। किसी के साथ व्यर्थ वाद-विवाद न करें । आज लेखक, कारीगर और कलाकारों को अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलेगा।
राशिरत्न:-हीरा,ओपल

मिथुन:-
ताजगी के अनुभव के साथ आज दिन की शुरुआत होगी। घर या कहीं बाहर दोस्तों तथा परिवार के लोगों के साथ आपको मनपसंद खाना खाने का अवसर मिल सकता है। अच्छे कपड़े पहनकर बाहर जाने का प्रसंग बनेगा। आर्थिक लाभ मिलने के योग हैं।
राशिरत्न:-पन्ना

कर्क:-
आज आप फिजूल खर्च या ज्यादा खर्च ना हो, इसका ध्यान रखें। कुटुंबीजनों और सहकर्मियों के साथ मनमुटाव हो सकता है। मन में अनेक प्रकार की अनिश्चितता के कारण मानसिक बेचैनी हो सकती है। क्रोध पर संयम रखें, अन्यथा किसी के साथ वाद-विवाद हो सकता है। सेहत का ध्यान रखें।
राशिरत्न:-मोती

सिंह:-
आज संभव है कि सही समय पर निर्णय ना ले पाने के कारण आप अच्छा मौका हाथ से गंवा सकते हैं,अतः सचेत रहें। विचारों में आपका मन अटका हुआ रहेगा। मित्र वर्ग की तरफ से आज आपको लाभ मिलेगा। व्यापार में लाभ होगा। संतान से मुलाकात होगी। अच्छा भोजन प्राप्त होगा।
राशिरत्न:-माणिक्य

कन्या:-
आज के दिन उत्तम है अतःआज उचित समय में नए कार्यों से संबंधित सफल आयोजन आप कर सकेंगे। व्यापारी वर्ग और नौकरीपेशा वालों के लिए आज का दिन लाभदायक रहेगा। उच्च अधिकारियों की कृपा दृष्टि से प्रमोशन की संभावना दिखाई देगी। व्यापार में लाभ होगा। गृहस्थ जीवन में आनंद का माहौल रहेगा।
राशिरत्न:-पन्ना

तुला:-
आज के दिन संभव है कि नौकरी पेशा करने वालों को उच्च वर्ग के अधिकारियों की नाराजगी सहनी पड़ सकती है। किसी बाहर वाले की वजह से व्यवसाय में परेशानी आ सकती है। संतान के भविष्य को लेकर चिंता हो सकती है। धार्मिक यात्रा का योग है। प्रतिस्पर्धियों के साथ वाद-विवाद टालें।
राशिरत्न:-हीरा,ओपल

वृश्चिक:-
आज आप अपने क्रोध पर सयंम रखें। अनैतिक कार्यों से दूर रहें, नए सम्बन्ध बनाने से पहले सोचें। धन खर्च ज्यादा होने से आर्थिक परेशानी का अनुभव कर सकते हैं। अपने काम को समय से पूरा करें। खाने-पीने का ध्यान रखें।
राशिरत्न:-मूँगा

धनु:-
आज बौद्धिक तार्किक विचारों के लिए समय बहुत अच्छा है। समाज में मान-सम्मान मिलेगा। मित्रों के साथ मुलाकात होगी। उनके साथ घूमने-फिरने या मनोरंजन स्थल पर जाने का आनंद मिलेगा। साझेदारों से लाभ होगा।
राशिरत्न:-पुखराज

मकर:-
आज आपको व्यापार में सफलता मिलेगी लेकिन कानून के चक्कर में ना पड़ें, उसका ध्यान रखें। व्यापार के लिए बनाई हुई योजना सफलतापूर्वक संपन्न होगी। पैसों की लेन-देन सफल रहेगी। धन लाभ योग है। कार्य में यश मिलेगा।
राशिरत्न:-नीलम

कुंभ:-
आज आपका मन लेखनकार्य करने में अच्छी तरह से निरत रह सकेगा। आपके विचार किसी एक बात पर स्थिर नहीं होंगे तथा उसमें लगातार परिवर्तन होते रहेंगे। संतान के भविष्य को लेकर चिंता हो सकती है। हो सके तो नए काम की शुरुआत आज न करें। आकस्मिक खर्च हो सकता है।
राशिरत्न:-नीलम

मीन:-
आज आप अपने मकान-वाहन के दस्तावेजों को संभालकर रखें। परिवार का माहौल ना बिगड़े, इसका पूरा ध्यान रखें। माता के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें। धन की हानि ना हो, इसके लिए सोच-समझकर निर्णय लें। महिलाओं के साथ व्यवहार में सावधानी रखें।
राशिरत्न:-पुखराज

।।आज के दिन का विशेषमहत्व।।

1 आज ग्रीष्मऋतु ज्येष्ठमाह शुक्लपक्ष द्वितीया तिथि शुक्रवार दिन है।
2 आज मन्दाकिनी स्नान व सर्वार्थसिद्धि योग है।

।।प्रेरणा दाई चौपाई।।
मागहु भूमि धेनु धन कोसा। सर्बस देउँ आजु सहरोसा।।
देह प्रान तें प्रिय कछु नाही। सोउ मुनि देउँ निमिष एक माही।।
सब सुत प्रिय मोहि प्रान कि नाई। राम देत नहिं बनइ गोसाईं।।

अर्थ:- गोस्वामी तुलसीदास जी वर्णन करते हैं कि महाराज श्री दशरथ जी महामुनि विश्वामित्र जी से निवेदन करते है कि हे मुनि श्रेष्ठ आप हम से जितनी चाहें गाय ,धन, खजाना,भूमि ले लेवें ये मैं हर्ष के साथ कहता हूं इस शरीर और प्राण से बढ़ कर इस संसार मे और कुछ नहीं वह भी मैं आपको एक छण में दे सकता हूँ लेकिन ये मेरे पुत्र मुझे प्राणों से भी प्यारे हैं किन्तु उनमें भी राम को देते नहीं बनता है।आप कुछ और माँग लें।

।।इति शुभम्।।

।।आचार्य स्वमी विवेकानन्द।।
।।ज्योतिर्विद व संगीत मय श्रीरामकथा व्यास।।
।।श्री अयोध्या धाम।।
संपर्क सूत्र-9044741252

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

महाकाल के सच्चे भक्त होते है इन 4 राशियों के लोग, जिन्हें मिलता है मनचाहा वरदान

अकाल मौत वह मरे जो काम करे चांडाल