आज का राशिफल और पंचांग: 19 जुलाई दिन गुरुवार, जानिए किसपर रहेगी इष्टदेव की नजर

।।आज का पञ्चाङ्ग।।
आप सभी का मंगल हो 19 जुलाई दिन गुरुवार

ऋतु-वर्षा
माह-आषाढ़
पक्ष-शुक्ल
तिथि-सप्तमी
सूर्य-उत्तरायण
सूर्योदय-05:39
सूर्यास्त-19:15
राहूकाल(अशुभमुहूर्त)प्रातः
दिन में 13.30 से 15.00 तक
दिशाशूल-दक्षिण
शुभदिशा-उत्तर
अमृतमुहूर्त-प्रातः दोपहर 02:10 से 03:53 तकआज का राशिफल और पंचांग: 19 जुलाई दिन गुरुवार, जानिए किसपर रहेगी इष्टदेव की नजर

।।आज का राशिफल।।

मेष:-
आर्थिक और व्यावसायिक दृष्टि से दिन लाभदायक है। मित्रों तथा स्वजनों की ओर से उपहार मिलेगा। उनके साथ समय आनंद में व्यतीत होगा। उनके साथ किसी समारोह या पर्यटन में जाने की संभावनाएं दिख रही हैं। परोपकार के काम करेंगे खुशी मिलेगी।
राशिरत्न:-मूँगा

वृष:-
आज वाणी की सौम्यता नए सम्बंध स्थापित करने में सहायक होंगे। शुभकार्य करने की प्रेरणा मिलेगी। परिश्रम का अपेक्षित परिणाम नहीं मिलने के बावजूद आप लगनशील रहेंगे। विद्यार्थी पढ़ाई में अच्छा प्रदर्शन कर सकेंगे। पेट की तकलीफ हो सकती है।
राशिरत्न:-हीरा,ओपल

मिथुन:-
आज दुविधापूर्ण मनःस्थिति रहेगी। अत्यधिक भावनाशीलता आपकी दृढ़ता को कमजोर करेगी। पानी तथा अन्य तरल पदार्थों से सावधान रहें। परिवार या जमीन से सम्बंधित मामलों पर चर्चा और प्रवास टालें। सेहत का ध्यान रखें।
राशिरत्न:-पन्ना

कर्क:-
आज घर में आनंद का वातावरण रहेगा। मित्रों एवं स्नेहीजनों के साथ मुलाकात होगी। दोस्तों से लाभ होगा। शुभ कार्य का आरंभ करने के लिए आज का दिन शुभ है। आर्थिक लाभ और भाग्य वृद्धि की संभावना है। मान- सम्मान मिलेगा।
राशिरत्न:-मोती

सिंह:-
पारिवारिक सदस्यों के साथ सुख- शांति से दिन व्यतीत होगा। उनका सहयोग मिलेगा। स्त्री मित्रों से विशेष मदद प्राप्त कर सकगें। आय की अपेक्षा खर्च अधिक होगा। उत्तम भोजन की प्राप्ति होगी। बातों से काम निकालने में सफल होंगे।
राशिरत्न:-माणिक्य

कन्या:-
वाक्पटुता और मीठी वाणी से आप लाभप्रद सौहार्दपूर्ण सम्बंध विकसित कर सकेंगे। उत्तम भोजन, भेंट उपहारों और वस्त्रों की प्राप्ति होगी। शारीरिक तथा मानसिक स्वस्थता बनी रहेगी।आनंद की प्राप्ति, जीवनसाथी की निकटता रहेगी।
राशिरत्न:-पन्ना

तुला:-
आज आप जोखिम से बचें और संयम से काम लें। अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें नहीं तो वाद-विवाद हो सकता है। मनोरंजन या घूमने- फिरने के पीछे पैसे खर्च होंगे। कामेच्छा प्रबल रहेगी। ध्यान और योग करें लाभ मिलेगा।
राशिरत्न:-हीरा,ओपल

वृश्चिक:-
नौकरी-धंधे और व्यवसाय में लाभ की प्राप्ति होगी। मित्रों के साथ मुलाकात, प्रवास का आयोजन करेंगे, विवाहोत्सुक युवक-युवतियों के विवाह के लिए सुनहरे अवसर आएंगे। पुत्र तथा पत्नी से लाभ होगा। स्नेहीजनों एवं मित्रों की तरफ से सौगात मिलेंगे।
राशिरत्न:-मूँगा

धनु:-
आज का दिन शुभ फल प्रदान करनेवाला है। गृहस्थजीवन में आनंद छाया रहेगा। प्रत्येक कार्य में सफलता प्राप्त होगी। अधिकारी आप पर प्रसन्न रहेंगे। पिता और बड़ों से लाभ होने की संभावना है। व्यावसायिक क्षेत्र में प्रवास हो सकता हैं। कार्यभार में वृद्धि होगी।
राशिरत्न:-पुखराज

मकर:-
बौद्धिक कार्य और व्यावसायिक क्षेत्र में आप नए विचारों से प्रभावित होंगे और उन्हे अपनाएंगे। संतान से सम्बंधित प्रश्न परेशान कर सकते हैं। धन के निरर्थक व्यय से संभलकर चलिएगा। मानसिकरूप से अस्वस्थता का अनुभव होगा। वाद-विवाद से दूर रहें।
राशिरत्न:-नीलम

कुंभ:-
वाणी पर संयम रखिएगा। परिवार में तनाव हो सकता है। खर्च अधिक होने के कारण धन का संकट महसूस करेंगे। क्रोध पर संयम रखिएगा। शारिरिक और मानसिकरूप से अस्वस्थता बनी रह सकती है।
राशिरत्न:-नीलम

मीन:-
मनोरंजन के लिए आज समय निकालेंगे। परिजनों के साथ सुख-शांति से दिन का आनंद लेंगे।। शारीरिक और मानसिकरूप से आप दिनभर प्रफुल्लित रहेंगे। आपकी प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। ईश्वर का ध्यान करना अच्छा रहेगा।
राशिरत्न:-पुखराज

।।आज के दिन का विशेषमहत्व।।

1 आज वर्षाऋतु आषाढ़ माह शुक्लपक्ष सप्तमी तिथि दिन बृहस्पतिवार है।
2 आज सूर्य नारयण पूजन हैं।

।।प्रेरणा दाई चौपाई।।

पुर रम्यता राम जब देखी। हरषे अनुज समेत बिसेषी।।
बापीं कूप सरित सर नाना। सलिल सुधासम मनि सोपाना।।

अर्थ:- जब प्रभू श्री रामभद्र ने विदेह नगरी की रमणीयता देखा तो भैया लक्ष्मण के साथ उनको बड़ा आनन्द आया इतने दिनों तक श्री अयोध्या नगरी से दूर जंगल मे रहते रहे,धरती पर सोते रहे, फल मूल खाते रहे, तो अब जो शहर देखने को मिला तो बड़ा आनन्द आया बाबली, नदी,कुँआ, सरोवर और अमृत के समान वहाँ का जल है। खरा पानी नहीं है नहीं तो ब्रज में जाओ तो रो,रो कर गोपियों ने वहाँ का पानी खारा कर दिया है। भगवान ने सोचा यह तो ससुराल का गाँव है यहाँ खारा पानी होगा तो बदनामी होगी कि भगवान को बेटी व्याही तब भी खारा पानी सो इस लिए पानी अमृत के समान है और जगह जगह मणियों की सीढ़ियां बहुत ही मनोहर लग रहीं है।

।।इति शुभम्।।

।।आचार्य स्वमी विवेकानन्द।।
।।ज्योतिर्विद व संगीतमय श्रीरामकथा व श्रीमद्भागवत कथा प्रवक्ता।।
।।श्री अयोध्या धाम।।
संपर्क सूत्र-9044741252

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

हर किसी को चाणक्य की इस नीति पर चलना चाइये, पूरी जिन्दगी में नहीं होगी कोई कमी

प्राचीन समय से ही पुरुषों के लिए स्त्री