देश के करोड़ों छात्रों को पीएम मोदी ने दिया परीक्षा मंत्र, कहा- सफलता के लिए

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम में छात्रों को टिप्स दे रहे हैं. स्कूली छात्रों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जोड़ा गया है. प्रधानमंत्री का कार्यक्रम पूरी तरह से परीक्षा और शिक्षा पर आधारित है. परिचर्चा का शीर्षक ‘मेकिंग एक्जाम फन: चैट विद पीएम मोदी’ रखा गया है. जिसमें मोदी परीक्षा को लेकर बच्चों को उनके सवालों के जवाब और कुछ टिप्स दे रहे हैं. कार्यक्रम में  2 हजार से ज्यादा छात्र शामिल हो रहे हैं.

‘परीक्षा पर चर्चा’ से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने के लिए इस पेज को रिफ्रेश करते रहें…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बच्चों को संबोधित कर रहे हैं.

बच्चों से मुखातिब होते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मैं शिक्षकों की बदौलत आज भी विद्यार्थी हूं. स्वच्छता मिशन की क्रांति बच्चे लाएं. इस मिशन में बच्चों और मीडिया की भूमिका अहम है.

अब पीएम मोदी से कुछ बच्चे परीक्षा के दबाव पर सवाल पूछ रहे हैं. बच्चों ने सवाल किया कि परीक्षा से पहले हम बहुत तैयारी करते हैं, लेकिन ऐन वक्त पर सब कुछ भूल जाते हैं. इस पर पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे समय में सबसे जरूरी है आत्मविश्वास बनाए रखना.

– जावड़ेकर ने कहा शिक्षा गुणवत्तापूर्ण हो, इसके लिए ‘सर्व शिक्षा अभियान’ का नया रूप जल्द ही देश के सामने आने वाला है.

– उन्होंने कहा पहली बार 6 लाख स्कूलों के 10 करोड़ छात्र संग प्रधानमंत्री की परीक्षाओं पर चर्चा होगी.

– सबसे पहले HRD मिनिस्टर जावड़ेकर ने स्टेज पर आकर बच्चों से कहा ऐसा पहली बार हो रहा है जब देश के प्रधानमंत्री परीक्षा पर चर्चा कर रहे हैं.

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तालकटोरा स्टेडियम में पहुंच गए हैं. उनके साथ HRD मिनिस्टर जावड़ेकर भी पहुंचे.

– ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम  दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में शुरू हो गया है.

प्रधानमंत्री से पूछे गए थे ये सवाल

वहीं ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम में छात्रों ने पीएम से शिक्षा-परीक्षा पर काफी सवाल पूछे थे जिनका जवाब पीएम मोदी देंगे. मोदी ने बच्चों से ट्विटर और अपनी वेबसाइट के जरिए सवाल मांगे गए थे.

छात्रों ने शिक्षा-परीक्षा पर मोदी से पूछे थे ये सवाल… 

– सवाल: सरकार कई मुद्दों पर काम कर रही है, लेकिन एजुकेशन लोन की ओर से किसी का ध्यान नहीं है. लगातार बेरोजगारी की समस्या बढ़ने के बाद भी लगातार एजुकेशन लोन में ब्याज की दर बढ़ रही है. इस पर ध्यान देना आवश्यक है, क्योंकि देश का युवा ईएमआई के बोझ के तले दब रहा है…

सवाल: मैं 12वीं कक्षा का छात्र हूं और मैं इस बात को लेकर चिंतित हूं कि मुझे परीक्षा में कितने अंक लाने होंगे, ताकि मैं प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए योग्य हो सकूं..? (@saptak__mondal)

– सवाल: आदरणीय प्रधानमंत्री जी, मैं 10वीं कक्षा का छात्र हूं और मैं पूरी साल बीमार था और परीक्षा में कम दिन बचे हैं… इसके लिए मैं काफी परेशान हूं.

पाक नागरिकों को मेडिकल वीजा पर RTI का नहीं दिया जवाब, संबंध बिगड़ने की दी दलील

– सवाल: बच्चे परीक्षा के समय बहुत घबरा जाते हैं और इस घबराहट में पढ़ा हुआ भूल जाते हैं, तो ऐसे में उन्हें क्या करना चाहिए कि जिससे उन्हें ये दिक्कत न हो?

– सवाल: अगर बच्चे की रूचि कुछ और बनने की हो और उसके घरवाले उसे कुछ ओर बनाना चाहते हैं तो ऐसे स्तिथि में क्या करना चाहिए?

– सवाल: मैं 12वीं साइंस का विद्यार्थी हूं जो आईआईटी में एडमिशन लेना चाहता हूं. मै तनाव मुक्त रहना चाहता हूं, लेकिन रिजर्वेशन सिस्टम की वजह से मैं भयभीत हूं? (@Subhashish1999)

बता दें, बच्चों की ओर से पूछे गए सवालों में बोर्ड परीक्षा की तैयारी को लेकर सवाल कम है, जबकि बच्चे अपने भविष्य को लेकर चिंतित नजर आ रहे हैं. साथ ही वो करियर को लेकर सवाल पूछे हैं.

You may also like

यूपी कैबिनेट ने लिए कई अहम फैसले, नई धान खरीद नीति मंजूर कर किसानों को दिया तोहफा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता