पांचवें वनडे मैच में रोहित शर्मा ने नहीं मनाया शतक का जश्न, ये रही बड़ी वजह…

- in खेल

नई दिल्ली: ओपनर बल्लेबाज रोहित शर्मा की 115 रन की शानदार शतकीय पारी के बाद कुलदीप यादव की कातिलाना गेंदबाजी की बदौलत भारत ने मंगलवार देर रात सेंट जॉर्ज पार्क में खेले गए पांचवें वनडे मैच में मेजबान दक्षिण अफ्रीका को 73 रनों से हरा दिया. इसी के साथ भारत ने छह वनडे मैचों की सीरीज 4-1 से अपने नाम कर ली. यह भारत की दक्षिण अफ्रीका में पहली वनडे सीरीज जीत है. इससे पहले भारत कभी भी इस देश में वनडे सीरीज नहीं जीत सका था. मैच के बाद, भारतीय उप कप्तान रोहित शर्मा ने अपने शतक का जश्न नहीं मनाने का कारण बताया.

पांचवें वनडे मैच में रोहित शर्मा ने नहीं मनाया शतक का जश्न, ये रही बड़ी वजह...

रोहित ने पत्रकारों के सवाल पर कहा, “मेरे सामने दो महत्वपूर्ण बल्लेबाज कोहली और रहाणे रन आउट हो गए थे. ऐसे में मैं शतक का जश्न कैसे मनाता. मैं शतक बनाने के बिल्कुल भी मूड में नहीं था.”  

रोहित ने कहा कि विकट बहुत धीमा था. इसलिए हमें भरोसा था कि 275 का लक्ष्य काफी चुनौतीपूर्ण होगा. मैं अपनी पारी को शतक लगाने के बाद और आगे ले जाना चाहता था लेकिन ऐसा नहीं हुआ. रोहित ने कहा, ‘‘निश्चित रूप से, मुझे लगता है कि यह विदेशों में वनडे मे हमारी सबसे बड़ी जीत है. यह अच्छी जीत है क्योंकि यह द्विपक्षीय सीरीज थी. इससे पहले हमने आस्ट्रेलिया में 2007-08 में सीबी त्रिकोणीय सीरीज जीती थी. हालांकि वो सीरीज भी काफी कठिन थी. ’’

इस अफ्रीकी दिग्गज के निशाने पर टीम इंडिया, ऐतिहासिक जीत के बावजूद प्रदर्शन से नाखुश

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे लिए, दोनों की तुलना करना काफी मुश्किल है. मुझे लगता है कि यह सीरीज हमारे लिए काफी मायने रखती है. हम जिस तरह से पहले मैच से खेले थे, उसे देखकर साफ पता चलता है कि हमने सीरीज में दबदबा बनाया और नतीजा भी सबके सामने है.’’

रोहित ने कहा कि मुश्किल परिस्थितियों के बावजूद टीम ने पूरी तरह दबदबा बनाया जिससे यह जीत काफी विशेष बन गई है. उन्होंने कहा, ‘‘यह जीत सबमें बिलकुल ऊपर रहेगी. 25 वर्षों के बाद हमने दक्षिण अफ्रीका में सीरीज जीती है. क्रिकेट खेलने के लिए यह बिलकुल भी आसान जगह नहीं है, निश्चित रूप से सीरीज जीतने के लिये तो यह बिलकुल आसान जगह नहीं है. मुझे लगता है कि इसके लिये काफी श्रेय खिलाड़ियों को जाता है. ’’

रोहित ने कहा, ‘‘जिस भी खिलाड़ी को मौका मिला, उसने हाथ उठाकर चुनौती अपने कंधों पर ली. अगर आप पूरी वनडे सीरीज को देखो तो इसमें हमारा प्रदर्शन दबदबे वाला था. इससे बतौर टीम विदेशों में जाने के लिए और वहां सीरीज जीतने के लिए हमारा आत्मविश्वास बढ़ेगा ही.’’ उन्हें साथ ही यह भी लगता है कि टेस्ट सीरीज भी एकतरफा मुकाबला नहीं थी जिसमें भारतीय टीम 1-2 से हार गई थी. उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि टेस्ट सीरीज बहुत ही करीबी थी. यह किसी भी तरफ जा सकती थी. जो भी हो, हमें अपने प्रदर्शन पर गर्व है और आज जो हमने हासिल किया, उस पर हमें गर्व है.’’ 

 

You may also like

14 महीने बाद वनडे में इस खिलाड़ी की हुई वापसी, मैदान पर फिर दिखा जादू

पिछले साल जुलाई के बाद अपना पहला वनडे