नकारात्मक शक्तियों को निमंत्रण देता है फ्रिज में रखा बचा हुआ आटा

- in धर्म

सभी घरो में यह देखा जाता है कि महिलाएं रोटी बनाने के बाद जो आटा बच जाता है उसे उठा कर फ्रिज में रख देती हैं कि फिर से जब जारूरत होगी तो रोटी बना लेंगें और कई कामकाजी महिलाएं तो रात को ही आटे को गूंथ कर फ्रिज में रख देती हैं कि सुबह जल्दी से रोटीयां बना लेगी लेकिन आपको बता दे कि जो महिलाएं ऐसा करती हैं उनको ये आदत छोड़ देनी चाहिए क्यूंकि कहा जाता है कि आटा भिगोते ही तुरंत उसका इस्तेमाल कर लेना चाहिए वरना उसमें कई ऐसे रसायनिक बदलाव आते हैं जो हमारे शरीर के बहुत ही नुकसानदायक होते हैं। आइए जानते हैं फ्रिज में रखे आटे को इस्तेमाल करने से होने वाले नुकसानों के बारे में। 

* आयुर्वेदिक तथ्यों के अनुसार

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आयुर्वेद में स्पष्ट कहा गया है कि फ्रिज में आटा गूंथकर नहीं रखना चाहिए। रखे हुऐ बासी आटे की रोटी का स्वाद ताजे गूंथे आटे की रोटी जैसा नहीं होता है और रात भर उसमें नमी के कारण लाखों बैक्टीरिया भी पनप जाते हैं। 

 

* शास्त्रों के अनुसार

शास्त्रों में भी कहा गया है कि जब घरों में बचे हुए आटे को फ्रिज में रख दिया जाता है बचा हुआ आटा एक पिंड के समान होता है जो की नकारात्मक शक्तियों का घर बनता हैं और साथ ही यह भी कहा जाता है कि बासी भोजन भूत का भोजन होता है। तब भूत-प्रेत इस पिंड का भक्षण करने के लिए घर में आना शुरू हो जाते हैं। जिन परिवारों में इस तरह कि आदत होती है वहां किसी न किसी प्रकार का रोग और आलस का डेरा हमेशा बना रहता है। इसलिए कभी भी भूल कर बचा हुआ आटा फ्रिज में रात को नहीं रखना चाहिए।

31 मार्च हनुमान जयंती पर शनि का बना वक्री योग इन 6 राशियों का अब पूरा होगा रह सपना

* वैज्ञानिक तथ्यों के अनुसार

विशेषज्ञों के अनुसार यह माना जाता हे कि जो आटा हम रोटी के लिए लगा कर तैयार करते हैं उसका इस्तेमाल जल्दी से जल्दी कर लेना चाहिए वरना उसमें कई ऐसे रसायनिक बदलाव आते हैं जो सेहत के लिए बहुत हानिकारक माने जाते हैं। आटे को गूंथकर फ्रीज में रखने से फ्रीज की हानिकारक किरणें उसमे प्रवेश कर जाती हैं और उसे खराब कर देती है। जब इस तरह के आटे से रोटी बनाकर खाई जाती हैं तो बीमारियों का होना स्वभाविक होता है।

You may also like

आज है साल का सबसे बड़ा सोमवार जो आज से खोल देगा इन 4 राशियों के बंद किस्मत के ताले

दोस्तों आपने एक कहावत तो सुनी ही होगी