श्रीलंका दौरे पर मयंक अग्रवाल को नजरंदाज, BCCI ने बताई ये बड़ी वजह

- in खेल

श्रीलंका में मार्च के पहले हफ्ते में शुरू होने वाली निदाहस ट्रॉफी के लिए जब टीम इंडिया का ऐलान हुआ, तो  इसमें कई युवा खिलाड़ियों को जगह दी गई, लेकिन उस खिलाड़ी को जगह नहीं मिली, जिसके नाम की उम्मीद करोड़ों भारतीय क्रिकेटप्रेमी लगाए हुए थे. सभी ने यह मान लिया था कि कर्नाटक के ओपनर मयंक अग्रवाल का चयन ट्राई सीरीज के लिए होना ही होना है. लेकिन जब उनका सेलेक्शन नहीं हुआ, तो मंयक के साथ-साथ उनके समर्थकों को भी निराशा हुई. लेकिन बीसीसीआई ने वजह साफ करते हुए घरेलू क्रिकेट में खेल रहे सभी युवाओं को साफ संदेश भी दे दिया. 

आपको बता दें कि अपनी समाप्ति की ओर अग्रसर 2017-18 घरेलू क्रिकेट सेशन में मयंक अग्रवाल के बल्ले ने जमकर धमाल मचाया है. मंयक ने सेलेक्टरों के समक्ष साबित किया कि न वह केवल पांच दिनी क्रिकेट के लिए एकदम मुफीद हैं, बल्कि उन्हें वनडे मैचों में भी तेजी से रन बनाना बखूबी आता है. मंयक रणजी ट्रॉफी और विजय हजारे दोनों में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे. लेकिन इसके बावजूद बीसीसीआई सख्त हो चला है. 

मयंक ने 8 रणजी ट्रॉफी मैचों में 105.45 के औसत से 1160 रन बनाए. इसमें उनका सर्वाधिक स्कोर 303* रहा, तो उन्होंने कुल पांच शतक जड़े, तो वहीं इस सलामी बल्लेबाज ने विजय हजारे (वनडे) में 7 मैचों में देश में सबसे ज्यादा 633 रन बनाए. और उनका औसत 90.52 का रहा. वनडे में उन्होंने 3 शतक और इतने ही अर्धशतक जड़े.

टी 20 मैचों की श्रृंखला हारने के बाद अफ्रीका के कोच ने खोला मुंह, धोनी पर दिया चौकाने वाला बयान

इसके अलावा वह सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी (टी-20) में सबसे ज्यादा रन बनाने में 13वें नंबर पर रहे. इसमें उन्होंने 9 मैचों में 28.66 के औसत से 258 रन बनाए. लेकिन अब बीसीसीआई ने साफ कर दिया है कि आप भले ही सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों हों, लेकिन हर बल्लेबाज को अनिवार्य शर्त का पालन करना होगा. 

You may also like

LIVE Asia Cup: पाकिस्तान ने टॉस जीत चुनी बल्लेबाजी

पाकिस्तान ने बुधवार को एशिया कप में भारत