एक साल में निर्माण विभाग ने सरकार को लगाई इतने करोड़ की चपत, जानकर हो जाएंगे हैरान

Loading...

पिथौरागढ़ : एक दर्जन से अधिक निर्माण विभागों के बड़े खेल का खुलासा पिथौरागढ़ जिले में हुआ है। खनिजों की रॉयल्टी में हुए इस खेल में विभागों ने सरकार को एक वर्ष में ही 3800 करोड़ की चपत लगा दी। देहरादून से जून अंत में आई महालेखाकार(एजी) की जांच के बाद अब इस खेल का खुलासा हुआ है। खुलासा होने के बाद अब इन विभागों पर करोड़ रुपये तक की पेनाल्टी संभव है।

विभागों ने उपयोग किए गए खनिज का जो ब्यौरा उपलब्ध कराया और जमा की गई रायल्टी में भारी अंतर मिला। टीम ने पाया जितनी खनिज सामग्री उपयोग की गई है उसकी रायल्टी लगभग 400 करोड़ रुपये बनती है, जबकि विभागों ने कुल 20 करोड़ की रायल्टी खनन विभाग के पास जमा करवाई थी। इस बड़े खुलासे के बाद एजी की टीम ने सारे कागजात कब्जे में ले लिए। टीम पूरी पत्रावली अपने साथ लेकर देहरादून लौट गई है। 

खनन अधिकारी दीपक कुमार ने बताया कि उपखनिज नियमावली का उल्लंघन गंभीर मामला है। सरकार को बड़ी चोट पहुंचाने वाले इन विभागों पर अब पांच गुना अधिक पेनाल्टी लग सकती है जो करीब दो हजार करोड़ रुपये होगी। 

बनकोट-गणाई सड़क में 60 लाख की पेनल्टी 

एजी के खुलासे के बाद हरकत में आए खनन विभाग ने ऐसे मामलों में कार्रवाई शुरू कर दी है। खनन अधिकारी दीपक कुमार ने बताया कि 25 किलोमीटर लंबी गणाई-बनकोट सड़क में खनिज उपयोग के लिए जिलाधिकारी की अनुमति नहीं ली गई है। उपयोग किए गए खनिज और जमा की गई रॉयल्टी में बहुत अधिक अंतर है। निर्माण एजेंसी लोक निर्माण विभाग पर 60 लाख की पेनाल्टी का प्रस्ताव बनाकर उन्होंने डीएम को सौंप दिया है।

जिलाधिकारी ने गठित की टीम 

कैग की रिपोर्ट के बाद सक्रिय हुए प्रशासन ने ऐसे मामलों में निगाह रखने के लिए टीम गठित कर दी है। इस टीम में संबंधित क्षेत्र के एसडीएम के साथ ही खनन अधिकारी, सिंचाई विभाग और वन विभाग के अधिकारी शामिल रहेंगे। टीम निकाले जाने वाले खनिज, उपयोग किए गए खनिज और जमा की गई रॉयल्टी की रकम पर निगाह रखेंगे। प्रशासन के इस कदम से राजस्व में बढ़ोत्तरी के साथ ही अवैध खनन के कारोबार पर भी रोक लगने की उम्मीद है।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com