केरल: बारिश से अबतक 13 की मौत

- in राष्ट्रीय

केरल में मानसून अब अपना असर दिखाने लगा है. यहां रविवार को चार लोगों की मौत के साथ ही राज्य में पिछले दो दिनों में अबतक वर्षा जनित घटनाओं में 13 लोगों की जान जा चुकी है जबकि उत्तर भारत के कई हिस्सों में अधिकतम तापमान सामान्य के आसपास रहा. उधर, ओडिशा में भी बिजली गिरने से तीन लोगों की मौत हो गई. ये लोग हॉकी मैच देख रहे थे, तब वे बिजली की चपेट में आ गए.

अधिकारियों के अनुसार केरल में ज्यादातर मौतें उफनती नदियों में लोगों के डूब जाने और पेड़ों के गिरने से उनके नीचे कुचलकर हुईं. रविवार को तिरुवनंतपुरम, पठानमथिट्टा और अलप्पझुआ जिलों में चार लोगों की जान चली गई. दक्षिण पश्चिम मानसून के आने पर केरल में भारी वर्षा हुई तथा इडुकी, कोझिकोड़ एवं कन्नूर जिलों में फसलों और संपत्तियों का भारी नुकसान हुआ. 

उत्तर भारत में राजस्थान में हल्की वर्षा से लोगों को तपती गर्मी से राहत मिली. जैसलमेर 41.2 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान के साथ राज्य का सबसे गर्म स्थान रहा. पूर्वी राजस्थान में कुछ स्थानों पर धूल और गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है. हिमाचल प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की वर्षा हुई. राज्य में सबसे अधिक 35 मिलीमीटर वर्षा पोंटा साहिब में हुई. 

माल्या की तरह नीरव मोदी भी भागा ब्रिटेन, राजनीतिक शरण की कर रहा कोशिश

ओडिशा में दो भाइयों समेत तीन की मौत

ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले में रविवार को हॉकी के एक मैच के दौरान बिजली गिरने से तीन दर्शकों की मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गए. पुलिस के अनुसार तलसारा थाने के सगबहल में एक स्थानीय मैच चल रहा था. मैच देखने के लिए सैंकड़ों लोग वहां जमा थे. बारिश के कारण मैच को बीच में ही रोक दिया गया और कई दर्शक बरगद के एक पेड़ के नीचे एकत्र हो गए. पुलिस ने बताया कि उसी पेड़ पर बिजली गिरी और तीन लोगों की मौत हो गई. उनमें से दो भाई हैं. घायल दोनों लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालत गंभीर है. 

कर्नाटक में भी भारी बारिश

कर्नाटक के कई इलाकों में आज रविवार को भी भारी बारिश हुई. बेंगलुरु के कई इलाके जलमग्न हो गए. हालांकि यहां से किसी के हताहत होने के समाचार नहीं हैं. बेंगलुरु में वर्षा ने भारत के विरुद्ध अफगानिस्तान के पहले ऐतिहासिक टेस्ट से पहले उसके पहले प्रैक्टिस सत्र पर पानी फेर दिया. 

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

…तो इसलिए ‘बेसब्र और बेचैन’ हैं पीएम मोदी…

देश के 72वें स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र