पराली जलना ही है दिल्ली के प्रदूषण की सबसे बड़ी वजह: नासा

- in Mainslide, राष्ट्रीय

दिल्ली में मॉनसून के बाद और सर्दी के मौसम से पहले हर साल प्रदूषण बढ़ने की सबसे बड़ी वजह का नासा ने पता लगाया है। अमेरिकी एजेंसी के वैज्ञानिकों ने अपनी नई स्टडी में कहा है कि पंजाब और हरियाणा में फसलों के अवशेष जलाए जाने का दिल्ली में प्रदूषण बढ़ने से सीधा संबंध है। रिपोर्ट के मुताबिक फसलों के अवशेष जलाए जाने का सीधा असर दिल्ली पर पड़ता है क्योंकि पंजाब और हरियाणा की हवा यहां आती हैं। ऐसे में यदि इन दोनों राज्यों में फसलों के अवशेष जलाए जाते हैं तो PM 2.5 के स्तर पर में इजाफा हो जाता है।

फसलों के अवशेष जलाए जाने से दिल्ली पर कितना विपरीत असर पड़ता है, इस बात का अंदाजा इससे ही लगाया जा सकता है कि आम दिनों में दिल्ली में PM 2.5 का स्तर 50 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर होता है, जबकि नवंबर की शुरुआत में यह 300 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर हो जाता है। इन्हीं दिनों में आमतौर पर किसान धान की पराली जलाते हैं। 2016 की सर्दियों में यह समस्या सबसे ज्यादा देखने को मिली थी, जबकि पराली जलाए जाने के चलते PM 2.5 का स्तर 550 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर हो गया था। 

खासतौर पर नवंबर महीने में स्मॉग की समस्या बहुत बढ़ गई थी और 5 नवंबर को तो PM 2.5 का स्तर 700 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर हो गया था। हालांकि स्टडी में यह भी कहा गया है कि पराली के अलावा 95 लाख स्थानीय वाहनों, इंडस्ट्रीज और कंस्ट्रक्शन भी एयर पलूशन के लिए जिम्मेदार हैं। इस स्टडी में सरकार को स्मॉग की समस्या से निपटने के लिए कुछ अहम सुझाव भी दिए गए हैं। 

बड़ा रेल हादसा: पटना -कोटा एक्सप्रेस पटरी से उतरी, यात्रियों में मचा हडकंप…

स्टडी में एक अहम बात और कही गई है कि पराली पहले भी जलाई जाती थी, लेकिन उसका समय अक्टूबर महीने का होता था। बीते कुछ सालों में धीरे-धीरे यह टाइमिंग नवंबर तक आ गई, जब हवा धीमी होती है और सर्दियों का मौसम शुरू होता है। ऐसे में पराली जलने के कारण पैदा हुआ धुआं हवा में उड़ नहीं पाता। 
=>
=>
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

23 मई 2018 दिन बुधवार का राशिफल और पंचांग : जाने किन राशियों के लिए शुभ है कल का दिन

आप सब का मंगल हो… ।। आज का