चीन ने छोड़ा पाकिस्तान का साथ, कहा- हमें नहीं कटवानी अपनी नाक

आतंकवाद के मामले पर पाकिस्तान को अपने दोस्त देश चीन का साथ भी नहीं मिल रहा है. चीन ने पाकिस्तान से साफ कह दिया है कि अब वह आतंकवाद के मामले पर उसका साथ नहीं दे सकता है.

पाकिस्तान को उन देशों की सूची में डालने की बात हो रही है, जिन पर आतंकवाद पर लगाम लगाने के मामले में नजर रखी जानी है. इसी आधार पर इन देशों को आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए वित्तीय मदद दी जाती है. अमेरिका लगातार पाकिस्तान को फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की ‘ग्रे लिस्ट’ में डालने की मांग कर रहा है.

ISIS में भर्ती होने पर तुर्की में 1700 विदेशी महिलाएं गिरफ्तार

पाकिस्तानी अखबार डॉन में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने पाकिस्तान से कहा है कि वह इस मामले में उसका साथ नहीं दे सकता, क्योंकि इससे उसकी भी बदनामी होनी तय है. चीन को लग रहा है कि उसकी कोशिशों के बावजूद अब पाकिस्तान को इस लिस्ट में डालने से नहीं रोका जा सकता है. अमेरिका ने पिछले हफ्ते ही FATF के सदस्य देशों पर पाकिस्तान को इस लिस्ट में डालने का दबाव बनाया था.

इससे पहले पाकिस्तान 2015 तक इस लिस्ट में शामिल था. रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन ने पहले पाकिस्तान को इस लिस्ट में डालने का विरोध किया था, फिर वह पीछे हट गया.

बताया जा रहा है कि अमेरिका ने इस पूरे मामले में अहम भूमिका निभाई है और पाकिस्तान इसे लेकर उससे नाराज भी है. दोनों देशों के बीच पिछले कुछ समय से अच्छे संबंध नहीं चल रहे हैं. दिसंबर 2017 में अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली बड़ी सैन्य मदद भी रोकने का फैसला किया था.

You may also like

सेना के इशारे पर काम करती है पाकिस्‍तान सरकार : पूर्व PM अब्‍बासी

इस्‍लामाबाद : पाकिस्‍तान से पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्‍बासी ने वहां की