ISIS में भर्ती होने पर तुर्की में 1700 विदेशी महिलाएं गिरफ्तार

इराक की एक कोर्ट ने तुर्की की 16 महिलाओं को आतंकी संगठन ISIS ज्वाइन करने पर फांसी की सजा सुनाई है। अगस्त में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू करने के बाद से ही इराकी सेना अबतक सैकड़ों महिलाओं को अरेस्ट कर सुनवाई के लिए कोर्ट में पेश कर चुकी है। अधिकारियों ने बताया कि अबतक करीब 1700 महिलाओं को आईएस की मदद के लिए पकड़ा जा चुका है। सेंट्रल क्रिमिनल कोर्ट के जज अब्दुल-सत्तार अल-बिर्कदार के मुताबिक, सजा का एलान तब किया गया जब ये साबित हो गया कि महिलाएं दाएश (ISIS) आतंकियों से जुड़ी हैं या फिर उन्होंने खुद आतंकियों से शादी और हमलों में मदद की बात कबूली। हालांकि, उन्होंने बताया कि कोर्ट के फैसलों पर अपील की जा सकती है। 

विदेशों से आईएस ज्वाइन करने आई थीं महिलाएं

अगस्त में इराकी सेना के ऑपरेशन के बाद करीब 1300 महिलाओं ने अपने बच्चों के साथ सरेंडर कर दिया था। देश से आईएस के पैर उखड़ने के बाद अबतक करीब 1700 विदेशी महिलाएं सेना के सामने सरेंडर कर चुकी हैं या गिरफ्तार हुई हैं।

अभी-अभी: इराक ने दी IS में शामिल होने वाली 16 तुर्की महिलाओं को फांसी

आईएस से जुड़ने की सजा मौत

– पिछले हफ्ते भी कोर्ट ने तुर्की की एक महिला को मौत की सजा सुनाई थी। वहीं 10 और देशों की महिलाओं को आजीवन कारावास की सजा दी गई थी। 
– करीब एक महीने पहले एक जर्मन महिला को मौत की सजा सुनाई गई थी। वहीं, दिसंबर में एक रूसी महिला को फांसी की सजा सुनाई गई थी।

दिसंबर 2017 में हुआ था ISIS के खात्मे का एलान

– इराक ने पिछले साल दिसंबर में आईएस पर जीत का एलान कर दिया था। इराक के पीएम हैदर अल-अबादी ने एलान किया था कि सेना ने सीरिया से लगे बॉर्डर को भी पूरी तरह अपने कब्जे में ले लिया है।
– आईएस ने 2014 में इराक के बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया था। इस दौरान आतंकियों ने हजारों महिलाओं और मासूमों को मौत के घाट उतार दिया था। 
– अपने 3 साल से ज्यादा के शासन में आईएस ने इराक को तबाह कर दिया था। लाखों लोग आतंकी हमलों से बचने के लिए अपने घरों को छोड़कर भागने को मजबूर हुए थे।

 
 
 
 

You may also like

भारत ने रोहिंग्याओं के लिए बांग्लादेश को राहत सामग्री प्रदान की

भारत ने हिंसा के कारण म्यामांर छोड़कर बांग्लादेश में शरणार्थी