वास्तु टिप्स: बेड के आस-पास कभी न रखें ये चीजें, उन्नति में पहुंचाती हैं बाधा…

अगर नींद अच्छी आती है, तो अगले दिन की शुरुआत अच्छी होती है। हर काम में मन लगा रहता है। जो लोग गहरी नींद में सोते हैं, उठने के बाद उनकी ऊर्जा उतनी ही अधिक होती है। दरअसल, जब कोई व्यक्ति गहरी नींद में होता है, तो वह ध्यान के गामा लेवल पर पहुंच जाता है।वास्तु टिप्स: बेड के आस-पास कभी न रखें ये चीजें, उन्नति में पहुंचाती हैं बाधा...

इस दौरान व्यक्ति को कॉस्मिक एनर्जी अधिक मिलती है। वहीं, जिन लोगों की नींद पूरी नहीं होती है या रात को बार-बार नींद टूटती है, उन्हें अगले दिन ऊर्जा में कमी लगती है। नींद का आपके बिस्तर से गहरा संबंध होता है। वास्तु में इससे जुड़े कुछ टिप्स बताए गए हैं, जिनको अपनाकर आप अच्छी गहरी नींद और ऊर्जा हासिल कर सकते हैं। जानते हैं इसके बारे में…

बेड को यदि गलत दिशा में रखा जाए, तो यह घर में वास्तुदोष भी उत्पन्न कर सकता है। साथ ही इस पर सोने वाले व्यक्ति को ठीक से नींद भी नहीं आती है, जिससे मानसिक तनाव होता है। वैवाहिक जीवन में परेशानियां व बीमारियां भी इसकी वजह से हो सकती हैं।

बेड का सिरहाना पूर्व या दक्षिण की ओर होना चाहिए। जबकि गेस्ट रूम में बेड का सिरहाना पश्चिम की ओर हो सकता है। अगर बेड लकड़ी का है तो और भी अच्छा है। धातु का बेड नकारात्मक ताकतें पैदा करता है। प्यार बढ़ाने के लिए एक कपल को सिंगल मेटरेस पर सोना चाहिए और दो अलग-अलग मेटरेस को आपस में जोड़ना नहीं चाहिए।

अपने बेडरूम में सुगंधित मोमबत्तियां, डिफ्यूजर्स या परफ्यूम रखें। आप चमेली या लैवेंडर की खुशबू का इस्तेमाल कर सकते हैं। अच्छी खुशबू आपका मूड झट से ठीक कर सकती है।

अपने बेडरूम में गोल या अंडाकार शेप का बेड न रखें। बेड में हमेशा सिर टिकाने की जगह होनी चाहिए। सोते वक्त कभी अपने पीछे खिड़की खोलकर न सोएं। बिस्तर के ऊपर की छत गोल नहीं होनी चाहिए।

कमरे के दरवाजे के ठीक सामने पलंग नहीं रखना चाहिए। यदि दरवाजे के सामने पलंग लगा है, तो इससे वास्तुदोष उत्पन्न होते हैं। इससे आर्थिक समस्या, मानसिक तनाव, बीमारी आदि समस्या बनी रहती हैं। यदि पलंग का स्थान बदल पाना संभव न हो, तो दरवाजे पर पर्दा डालकर रखें।

शिवपुराण में बताए हैं रुद्राक्ष के 14 प्रकार, जानें क्या फल मिलता है इनके पहनने से

बेड के ठीक सामने ऐसा शीशा नहीं होना चाहिए। यह पति-पत्नी के रिश्तों पर बुरा असर डालता है। यदि पलंग के सामने ऐसा कांच हो, जिसमें प्रतिबिंब दिखाई देता हो, तो उस पर कपड़ा डालकर सोना चाहिए।

यदि आपके पलंग के ठीक ऊपर छत का बीम है, तो पलंग को वहां से शिफ्ट कर लेना चाहिए। बीम के नीचे सोने पर आपके मस्तिष्क पर भार पड़ता है। नींद ठीक से नहीं आती है और तनाव बढ़ता है, थकान दूर नहीं होती है।

आजकल बेडरूम में ज्यादा इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे टीवी, फ्रिज, कंप्यूटर आदि नहीं रखनी चाहिए। दरअसल, ये वस्तुएं नकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करती हैं, जो व्यक्ति को रोगी बना सकती हैं।

वास्तु के अनुसार, बेडरूम में पानी से संबंधित तस्वीर नहीं लगानी चाहिए। ऐसा करने पर धन हानि होने की संभावनाएं बढ़ती हैं।

पलंग पर यदि खाने की वस्तु या पानी रखते हैं, तो यह भी हानि पहुंचाता है। इससे आर्थिक समस्या, बीमारी, रिश्तों मे तनाव आदि समस्या हो सकती हैं।

इस बेटे ने मां को गर्व से भर दिया, पैरेंटिंग को लेकर ऐसे जवाब की उम्मीद नहीं थी उसे

पलंग का सिरहाना और बिस्तर आरामदायक होना चाहिए। यदि सिरहाना ठोस लकड़ी का होगा, तो ज्यादा शुभ रहता है। बेड की ऊंचाई न तो बहुत ज्यादा होना चाहिए और न ही बहुत कम।

बेड के नीचे कुछ सामान नहीं रखना चाहिए। अगर सामान रखा होगा, तो ऊर्जा मार्ग बाधित होगा। इसी ऊर्जा से आपको शक्ति मिलती है और सुबह जब आप सोकर उठते हैं, तो एकदम तरोताजा महसूस करते हैं और दिनभर एनर्जी बनी रहती है।

बेड के सिरहाने के ठीक पीछे दीवार होना चाहिए। ऐसा होने पर आपको अधिक ऊर्जा प्राप्त होती है, जबकि सिरहाने के पीछे खिड़की होगी या खुला हिस्सा होगा, तो आपके आस-पास की ऊर्जा बाहर चली जाएगी।

Loading...

Check Also

Chhath puja: कब, क्यों आैर कैसे मनाया जाता है छठ पर्व, चार दिन चलता है उत्सव

Chhath puja: कब, क्यों आैर कैसे मनाया जाता है छठ पर्व, चार दिन चलता है उत्सव

कब होती है छठ पूजा छठ पूजा का पर्व सूर्य देव की आराधना के लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com