ज्योतिष: रूठी हुई किस्मत भी देगी आपका साथ, बस कीजिये ये उपाए

- in धर्म

प्रत्येक इंसान के जीवन में धन बहुत महत्व रखता है। छोटा हो या बड़ा हर किसी को अधिक से अधिक धन पाने की इच्छा होती है और हो भी क्यों न आखिर पैसा ही मनुष्य की हर ज़रूरत को पूरा करता है। लेकिन कई बार इन्हीं पैसों की तंगी के कारण इंसान के कई बनते काम बिगड़ जाते हैं। दरअसल कुछ व्यक्ति अपने रोज़-मर्रा की जीविनी में एेसी कुछ गलतियां कर बैठता है जिस कारण उसे अपने जीवन में पैसों से संबंधित कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन अधिकतर लोग इन बातों का नजरअंदाज कर देते हैं, जिसके चलते उनकी लाईफ में धन के आगमन में मुश्किलें आने लगती है। तो आईए आज हम आपको कुछ एेसे उपायों के बारे में बताएं जिसकी मदद से न केवल धन आगमन के मार्ग खुलेंगे बल्कि आपके परिवार में भी खुशहाली आएगी।
धन पाने के उपाय
रोज़ाना नियम से कमल गट्टे की माला से लक्ष्मी जी के किसी भी मंत्र का जाप करें। इस जाप की शुरुवात बुधवार या शुक्रवार से ही करें और उसके बाद नित्य नियमपूर्वक करते रहे।

नियमित रूप से विष्णु सहस्त्रनाम तथा श्रीसूक्त का एक-एक पाठ करें और लक्ष्मी जी को गुलाब या कमल का पुष्प चढाएं।

सुबह जल्दी जागकर घर की साफ़ सफाई करें। स्नान आदि करके मंदिर में पूजा करें। जहां सूर्यास्त और सूर्योदय के समय लोग सोते हैं वहां लक्ष्मी जी कभी नहीं ठहरती। इसलिए घर हमेशा स्वच्छ रहना चाहिए।

गाय, कुत्ता या भिखारी को खाना-पानी दें। चीटियों को दाना डालें।

संध्या के समय कभी भी घर में झाड़ू न लगाएं और न ही घर का कचरा बाहर फेंकें। यदि झाड़ू लगाना हो भी तो सूर्यास्त होने से पहले ही लगा लें। संध्या के समय धुप-दीप अवश्य करें और घर में दीपक जलाएं।

झाड़ू को हमेशा संभालकर रखें। उसे कभी भी खड़ी करके नहीं रखें। इसे ऐसी जगह पर रखें जिससे किसी की भी नजर उस पर नहीं पड़े। उसे कभी पैर से ठोकर मारें।

ईशान दिशा की सफ़ाई का खास ध्यान रखें। जहां धन रखते हों वहां लाल कपडा बिछा देने से धन की सकारात्मक उर्जा घर में बनी रहती है।

घर-दुकान, फैक्ट्री आदि के उत्तर, पूर्व, ईशान दिशा खुली होनी चाहिए और साथ ही इन दिशाओं में सुगंधित पुष्प वाले पौधे और तुलसी का पौधा लगाने से भी घर की सुख-समृद्धि बढ़ती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

एक बार महादेवजी धरती पर आये, फिर जो हुआ उसे सुनकर नहीं होगा यकीन…

एक बार महादेवजी धरती पर आये । चलते