येदियुरप्पा ने चुनाव से पहले ही बताई शपथ ग्रहण की तारीख

कर्नाटक में बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के चेहरा बीएस येदियुरप्पा ने ‘त्रिशंकु विधानसभा’ के राजनीतिक पंडितों के सभी अनुमानों को खारिज करते हुए दावा किया है कि राज्य के ‘किंग’ वही होंगे. गौरतलब है कि तमाम सर्वे में यह अनुमान लगाया गया है कि राज्य में त्रिशंकु विधानसभा हो सकती है, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा की पार्टी जनता दल (सेकुलर) ‘किंगमेकर’ के रूप में उभर सकती है.

मैं ही बनूंगा अगला सीएम!

आजतक-इंडिया टुडे से खास बातचीत में कर्नाटक के पूर्व सीएम येदियुरप्पा ने कहा, ‘यह 101 फीसदी निश्चित है कि मैं कर्नाटक का अगला सीएम बन रहा हूं.’ उन्होंने कहा कि मौजूदा मुख्यमंत्री सिद्धारमैया को चामुंडेश्वरी सीट पर करारी हार मिलेगी.

जीत के प्रति पूरी तरह से आश्वस्त येदियुरप्पा ने कहा, ‘मैं 18 मई को शपथ लूंगा.’ उन्होंने कहा, ‘मैंने प्रधानमंत्री से बंगलुरु में रहने का अनुरोध किया है. हम पर्याप्त सीटें जीतने जा रहे हैं.’

यूपी जैसे होंगे नतीजे

‘त्रिशंकु विधानसभा हुई तो भी क्या सीएम वह बनेंगे?’ आजतक-इंडिया टुडे के इस सवाल पर उन्होंने कहा, ‘यह संभव ही नहीं है. यूपी में जो कुछ हुआ, वही कर्नाटक में भी होगा. यहां कोई त्रिशंकु विधानसभा नहीं होने जा रही, हमें पूर्ण बहुमत मिलेगा और हम अगली सरकार बनाएंगे.’

बड़ीखबर: कश्मीर के बारामूला में आतंकियों ने बरसायी ताबड़तोड़ गोलीबारी, 3 युवकों को उतारा मौत के घाट

सिद्धारमैया ने लिंगायतों को अल्पसंख्यक का दर्जा देने की पेशकश की है. क्या इससे उत्तर कर्नाटक में थोड़े भ्रम की स्थ‍िति बनेगी? इस सवाल पर खुद लिंगायत समुदाय से आने वाले येदियुरप्पा ने कहा, ‘कर्नाटक की जनता यह जानती है कि यह मसला मुझे मुख्यमंत्री बनने से रोकने के लिए ही उठाया गया है.’

सिद्धारमैया ने कहा है कि उनका मुकाबला येदियुरप्पा से नहीं पीएम मोदी से है, इस पर येदियुरप्पा ने कहा, ‘उनका यह बयान मूर्खतापूर्ण है.’

सिद्धारमैया कर्नाटक में कांग्रेस के अंतिम सीएम होंगे! 

क्या वह सिद्धारमैया को कोई संदेश देना चाहेंगे? इस सवाल पर येदियुरप्पा ने कहा, ‘वह चामुंडेश्वरी में बुरी तरह हारेंगे. वह कर्नाटक में कांग्रेस के अंतिम सीएम होंगे.’  

बीएस येदियुरप्पा के बेटे विजेंद्र को बीजेपी ने टिकट नहीं दिया, लेकिन इस पर वह कोई शर्मिंदगी महसूस नहीं करते. उन्होंने कहा, ‘ऐसी कोई बात नहीं. यह निर्णय मैंने लिया है. ऐसे मौके पर पिता और पुत्र दोनों को चुनाव नहीं लड़ना चाहिए. बीजेपी एकजुट है.’

क्या यह सीएम के लिए येदियुरप्पा की अंतिम लड़ाई है? इस सवाल पर उन्होंने कहा, ‘दो-तीन दिन इंतजार कीजिए. मैं किसानों की लड़ाई लड़ने के लिए तैयार हूं. मतदाताओं के सामने मुख्य मसला इस सरकार का फेल होना और मोदी सरकार द्वारा हासिल उपलब्धियां हैं.’ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आज का राशिफल और पंचांग: 17 जुलाई दिन मंगलवार, जानिए किसके उपर होने वाली है प्रभु की कृपा

।।आज का पञ्चाङ्ग।। आप सभी का मंगल हो 17