पीएम मोदी पर यशवंत सिन्हा ने एक बार फिर साधा निशाना, कहा- नोटबंदी से अर्थव्यवस्था को हुआ बड़ा नुकसान

- in राष्ट्रीय

भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा एक बार फिर से पीएम मोदी और वित्त मंत्री पर हमलावर हुए हैं। सिन्हा ने मंगलवार को नोटबंदी और जीएसटी को लेकर दोनों पर निशाना साधा। उन्होंने नोटबंदी को लेकर दिए एक बयान में कहा कि 14वीं सदी में दिल्ली के सुल्तान मोहम्मद बिन तुगलक ने भी नोटबंदी की थी। यशवंत सिन्हा

गुजरात में लोकशाही बचाव अभियान के कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे सिन्हा ने कहा कि पुराने समय में बहुत से ऐसे शहंशाह आए जो अपनी मुद्रा साथ लेकर आए। कुछ ने पहले से चल रही मुद्रा को भी जारी रखा और उनमें से एक मोहम्मद बिन तुगलक ने नई मुद्रा लाकर पुरानी मुद्रा को चलन से हटा दिया।

उन्होंने आगे कहा कि नोटबंदी की घोषणा पीएम मोदी ने खुद की। अपने भाषण में उन्होंने कई बार कालेधन और भ्रष्टाचार के अलावा आतंकवाद का जिक्र किया लेकिन कहीं भी डिजिटलाइजेशन की बात नहीं थी। सिन्हा ने कहा कि नोटबंदी ने देश की अर्थव्यवस्था को 3.75 लाख करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाया है।

इसे भी पढ़े: गन्ना माफियाओं पर बड़ी कार्रवाई, तीन माह के लिए भेजें जाएंगे जेल

पीएम मोदी पर परोक्ष रुप से निशाना साधते हुए सिन्हा ने कहा कि अगर पिछले 70 सालों में देश में कोई विकास का काम नहीं हुआ है तो वाजपेयी सरकार में जो काम हुए वो क्या थे। देश में हमेशा लोकशाही रही है लेकिन अब हिटलरशाही चल रही है।

अरुण जेटली गुजरात की जनता पर बोझ

अपने संबोधन के दौरान सिन्हा ने अरुण जेटली पर भी जमकर निशाना साधा और कहा कि जेटली गुजरात की जनता पर बोझ हैं। सिन्हा ने कहा कि अरुण जेटली गुजरात की जनता पर बोझ हैं। इसलिए देशवासियों का यह मांग करना उचित होगा कि जेटली उन्हें हुई कठिनाइयों के लिए पद छोड़ें। ज्ञात हो कि अरुण जेटली गुजरात से राज्यसभा के सदस्य हैं।

उन्होंने जेटली के खिलाफ अपनी तल्खबयानी जारी रखते हुए कहा, ‘मै वित्त मंत्री को गुजराती नहीं मानता। वह गुजरात से राज्यसभा के लिए चुने गये होंगे पर वे आप पर बोझ हैं। अगर वह नहीं चुने जाते तो उनकी जगह किसी गुजराती को मौका मिला होता।’

loading...
=>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इस जगह पर सिकुड़ती दिखी धरती, कभी भी आ सकती है बड़ी तबाही

देहरादून से टनकपुर के बीच ढाई सौ किलोमीटर