वॉशिंगटन सुंदर की जर्सी नंबर की ही तरह उनके नाम में भी एक राज छिपा है. दरअसल उनके पिता एम सुंदर ने अपने गॉडफादर पीडी वॉशिंगटन के नाम पर अपने बेटे का नाम रखा था. पीडी वॉशिंगटन ने सुंदर के पिता की काफी मदद की और मुश्किल वक्त में परिवार के साथ खड़े रहे. इसीलिए सुंदर के पिता उन्हें अपना गॉडफादर मानते हैं.

वॉशिंगटन सुंदर ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में 3 छक्कों और एक चौके की मदद से 19 गेंदों पर ताबड़तोड़ 35 रन बनाए. लेकिन उनके इस धमाके के बावजूद बैंगलोर को हार का सामना करना पड़ा था. आईपीएल-10 में राइजिंग पुणे सुपरजायंट की ओर से खेलते हुए वॉशिंगटन सुंदर ने आईपीएल में सबसे कम उम्र में ‘मैन ऑफ द मैच’ का अवॉर्ड हासिल करने का रिकॉर्ड बनाया. 17 साल 223 दिनों में ये उपलब्धि हासिल करने वाले वे आईपीएल के सबसे युवा खिलाड़ी बने थे. अब तक 18 वर्ष की उम्र से पहले किसी खिलाड़ी को ‘मैन ऑफ द मैच’ हासिल नहीं हुआ था.