मौसम विभाग की चेतावनी, अभी भी आंधी-तूफान का खतरा बरकरार

- in Mainslide, राष्ट्रीय

उत्तर भारत में आंधी और तूफान ने भयंकर तबाही मचा रखी है और अब भी कुदरत के कहर का खतरा बना हुआ है। उत्तर प्रदेश और राजस्थान के अलग-अलग हिस्सों में आंधी और तूफान में कम से कम 100 लोगों की मौत हो गई है, जबकि कई घायल हो गए। ये तूफान कितना प्रभावशाली था इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि जड़ों सहित पेड़ उखड़ गए, लोगों के मकान ढह गए। यहां तक की आंधी-तूफान अपने साथ बिजली के खंभों को भी उड़ा ले गए। इस कुदरती कहर से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले राज्य उत्तर प्रदेश और राजस्थान हैं। मौसम विभाग के एक अधिकारी के मुताबिक अगले 48 घंटों के दौरान उत्तरप्रदेश और राजस्थान के कुछ हिस्सों में फिर से धूल भरी आंधी आ सकती है।इन इलाकों में चक्रवात की स्थिति बन रही है।इसका असर राजस्थान के सीमावर्ती जिलों में पड़ सकता है।

आंधी तूफान से 127 लोगों की मौत

मई की भीषण गर्मी के बीच अचानक आए तूफान और बवंडर ने उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में जमकर कहर बरपाया है। सबसे ज्यादा नुकसान उत्तर प्रदेश और राजस्थान में हुआ है। दक्षिणी राज्य आंध्र प्रदेश में भी काफी क्षति हुई है। कुल 127 लोगों की मौत होने की सूचना है। इनमें 73 मौतें उत्तर प्रदेश में, 36 राजस्थान में और 18 आंध्र प्रदेश में हुई हैं। इन राज्यों में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

यूपी में आगरा में सबसे ज्यादा मौतें

उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा असर आगरा, बरेली, पीलीभीत, सहारनपुर, चित्रकूट और बिजनौर में पड़ा है। सबसे ज्यादा 43 मौतें आगरा में हुईं। इसके अलावा बिजनौर में 3, सहारनपुर में 2, बरेली, चित्रकूट, रायबरेली और उन्नाव में एक-एक लोगों की मौत हुई है। तूफान में कई जानवरों को भी चोटें आईं हैं।

CM योगी ने तत्काल राहत का दिया आदेश

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्;यनाथ ने संबंधित जिलों के अधिकारियों को आंधी-तूफान और बारिश से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत और मुआवजा पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।;योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को मृतकों के परिजनों को 400,000 रुपये के मुआवजे की घोषणा की है, वहीं घायलों को 50,000 रुपये का मुआवदा देने का ऐलान किया है।;

अभी-अभी: कर्नाटक चुनाव से पहले BJP को लगा बड़ा झटका, दिल का दौरा पड़ने से विधायक का निधन

आंधी-तूफान से राजस्थान में भारी तबाही, 36 की मौत;

राजस्थान के कुछ हिस्सों में तेज आंधी में 36 लोगों की मौत हो गई और लगभग 100 अधिक लोग घायल हो गये।;आपदा प्रबंधन और राहत सचिव हेमंत कुमार गेरा ने बताया कि प्रदेश के मत्स्य क्षेत्र में बुधवार रात आई तेज आंधी में कई मकान ढह गए और बिजली के कई खंबे और पेड़ उखड़ गये। इससे कई लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गये। उन्होंने बताया कि तेज आंधी ने मुख्य रूप से तीन जिलों को प्रभावित किया है। इसके कारण प्रदेश के भरतपुर में 12 लोगों की, धौलपुर में 10 लोगों की और अलवर में पांच लोगों की मौत हो गई। गेरा के मुताबिक, आंधी प्रभावित लोगों को जिला प्रशासन के आकस्मिक कोष से राशि जारी की गई है। मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये का मुआवजा, 60 फीसद तक घायल हुए लोगों को दो-दो लाख रूपये का मुआवजा, 40 से 50 फीसद तक घायल हुए लोगों को 60-60 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।

;वहीं, बारिश के चलते बुधवार शाम को उत्तराखंड में यात्रियों को केदारनाथ और सोनप्रयाग में रोका गया। केदारनाथ और रुद्रप्रयाग में बुधवार दोपहर तीन बजे से बिजली नहीं है। हाईवे पर पेड़ गिरे हैं। बारिश के कारण जगह-जगह भूस्खलन की भी खबर है।

 
=>
=>
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

प्रेसिडेंट पुतिन ने पीएम मोदी को किया आमंत्रित, इस बार कुछ ऐसी होगी रूस यात्रा

सोची: रूस के एक बार फिर से प्रेसिडेंट बने