सात लड़के ने लड़की के साथ छेड़खानी का आपत्तिजनक वीडियो वायरल

- in बिहार

सात लड़के मिलकर सरेआमएक नाबालिग लड़की की इज्जत नीलाम करने पर तुले हुए हैं और लड़की चीख-चिल्ला रही है। लड़के अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए लड़की के कपड़े फाड़ रहे हैं और लड़की रहम की भीख मांग रही है। लड़की से छेड़खानी का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस प्रशासन ने इस घटना को काफी गंभीरता से लिया है। पुलिस उन शरारती युवकों की पहचान में जुट गई है जिनके द्वारा इस वीभत्स घटना को अंजाम दिया गया है।

लड़की के साथ छेड़खानी का आपत्तिजनक वीडियो वायरल

वायरल वीडियो मामले में कार्रवाई

पटना के जोनल IG नैयर हसनैन खान ने SIT गठित की

SIT में एएसपी (ऑपरेशन), जहानाबाद के एसपी शामिल

वीडियो में दिखे बाइक को बरामद कर लिया गया

एसआईटी लगातार छापेमारी कर रही है

बाइक सवार युवक अभी फरार है

हालांकि पुलिस को यह आशंका है कि इस घटना को जहानाबाद  जिले के ही चौर के क्षेत्र में अंजाम दिया गया है। स्थानीय पुलिस कार्यालय में रविवार को पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए एसपी मनीष ने कहा कि जैसे ही उन्हें इस प्रकार के वीडियो वायरल होने की जानकारी मिली उन्होंने नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज किए जाने का निर्देश दिया।

एसपी ने बताया कि उनके निर्देश पर ही नगर थाने के पुलिस अवर निरीक्षक श्यामसुंदर सिंह के लिखित बयान के आधार पर मोटरसाइकिल मालिक सहित आठ अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।

बेटी ने खोली बाप की करतूत की पोल, पुलिस ने किया गिरफ्तार

दर्ज प्राथमिकी में सब इंस्पेक्टर ने यह उल्लेख किया है कि मैं थाने में बैठकर अपने कार्यालय कार्य का निष्पादन कर रहा था। इसी बीच सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो को देखा। उस वीडियो में एक नाबालिग लड़की के साथ सात लड़कों द्वारा जबरन एवं बर्बर तरीके से अपराधिक बल प्रयोग करते हुए उसे निर्वस्त्र कर दुष्कर्म करने का प्रयास किया जा रहा था।

वीडियो फुटेज में इस घटना का वीडियोग्राफी करते हुए एक लड़का भी देखा जा रहा था। साथ ही घटना स्थल पर बीआर-25सी-7316 नंबर की एक मोटरसाइकिल भी पड़ी हुई थी। वह मोटरसाइकिल घटना में शामिल लोगों की ही होगी। हालांकि उसकी पहचान तो अब तक नहीं हो पाई है और ना ही घटना को अंजाम देने वाले लड़कों के नाम पता का ही सत्यापन हो सका है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कांग्रेस का दलित-सवर्ण कार्ड में नहीं विश्वास : मदन मोहन

पटना। तकरीबन 11 महीने के लंबे अंतराल के बाद