यहाँ मात्र 124 रूपये में मिलती हैं वर्जिन लड़कियां

- in 18+

आज हम आप लोगो का ध्यान कुछ पल के लिए खीचना चाहते हैं। आज हम आप लोगो के सामने ऐसे मुद्दे पर बात कर रहे हैं। जो बहुत सुनने में आता हैं। पर ये कब तक सुनने को मिलेगा। शायद आपको याद हो जब कहीं भी रेप केस की घटना सामने आती है। तो लोग बहुत बड़ी बाते और धरना प्रदर्शन करते लेकिन क्या उनको इन बच्चियों का दर्द नही दिखता या वो सोचते हैं की इस मुद्दे को उठा कर फेमस नही होंगे ?

यहाँ मात्र 124 रूपये में मिलती हैं वर्जिन लड़कियां

आज हम आपको एक ऐसे दर्द से रूबरू करवाने जा रहे हैं जो शायद हम लोग देखते हैं लेकिन हम लोग कभी भी उनका दर्द नही समझ पाते हैं। कोलकाता में स्थित सोनागाछी एशिया का सबसे बड़ा रेड लाइट एरिया बताया जाता है लेकिन ये बात कम ही लोग जानते होंगे कि किसी जमाने में ये जगह सिर्फ नाच-गाने के लिए मशहूर हुआ करती थी। लोग अपना मनोरंजन करने यहां आते थे। वक्त के साथ इस जगह का रूप भी पूरी तरह से बदल गया है।

आज इस जगह कई गैंग देह-व्यापार का धंधा चला रहे हैं। इस जगह पर 18 साल से कम उम्र की करीब 14 हजार लड़कियां सेक्स व्यापार में शामिल हैं। लेकिन उसे बड़ी बात यह है जो यहां पैदा होने वाली बच्चियों हैं उनकी की जिंदगी तो शुरुआत से ही नर्क होती है।

आपको पता है यहाँ पर हबस मात्र 124 रूपये में बुझ जाती हैं। क्या हुआ हैरान हो रहे हैं या आप भी इस स्वर्ग में जाने की सोच रहे हैं। वैसे बहुत लोगो के लिए तो ये ख़ुशी की बात होगी, समझ सकते हैं बहुत लोगो की तो जिन्दगी इसी पर टिकी हैं। और उससे बड़ा सच भी यह हैं की ऐसे लोगो की वजह से आज ये लड़कियां हर रोज किसी न किसी की आग बुझाने पर मजबूर है। और इनाम भी देखो हमारे समाज ने क्या दिया हैं बनाया भी उसने और वैश्य नाम भी दे दिया।

हमारे देश में देह व्यापार को आज भी कानूनी तौर पर अनुमति नहीं दी गई है। इसके बावजूद ऐसे कई रेड लाइट एरिया धड़ल्ले से चल रहे हैं। रोजाना यहां लड़कियां लाई जाती हैं और इस नर्क में उम्रभर सड़ने के लिए उन्हें यहां छोड़ दिया जाता है। दिनों दिन यह कारोबार पैर पसार रहा है। ऐसी ही एक जगह है सोनागाछी जहां पैदा होने वाली लड़कियां अभिशाप भुगतने को मजबूर हो जाती हैं।

लड़कियों की दर्दनाक जिंदगी…

आपको बता दे इन वैश्याओं की जो लड़कियां पैदा होती उनको को छोटी उम्र में ही जिस्म की इस मंडी में बेच दिया जाता है या फिर उन्हें कम उम्र में ही देह व्यापार के धंधे में धकेल दिया जाता है।

आप जानकर चौंक जाएंगे कि यहां 12 से 17 साल की लड़कियां मर्दों के साथ सोनेके लिए मजबूर की जाती हैं। मात्र 124 रूपये के लिए साथ ही यहां कोई भी फोटोग्राफर या पत्रकार पैर नहीं रख सकता। इन लडकियों का दर्द देख कर और कोलकाता के इस रेडलाइट एरिया पर एक फिल्म भी बन चुकी हैं जिसका नाम हैं  Born Into Brothels । इस फिल्म को  ऑस्कर सम्मान भी मिला है। इस फिल्म में भी इन बदनाम गलियों की सच्चाई को दिखाया गया है। इन तस्वीरों को सौविद दत्ता ने अपने कैमरे में कैद किया है, जिसे The Price of a Child नाम दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पीरियड्स के बारे में ऐसी 3 ग़लत धारणाएँ जिन्हें हमें…

हां, हम 21 वीं सदी में हैं हमने