छत्तीसगढ़ राज्य में साढ़े तीन हजार से अधिक मतदाता ऐसे हैं जिनकी आयु सौ वर्ष से अधिक है और राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर निर्वाचन आयोग उनका सत्यापन कर रहा है. छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुब्रत साहू ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि निर्वाचन आयोग ने राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है. उन्होंने कहा राज्य में ऐसे मतदाताओं की संख्या जिनकी आयु सौ वर्ष से अधिक है उनका सत्यापन किया जा रहा है.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुब्रत साहू ने बताया कि राज्य में होने वाले आगामी चुनाव के मद्देनजर निर्वाचन आयोग मतदाता सूची का सत्यापन करवा रहा है. ऐसे में मतदाता सूची के सत्यापन में कुछ मतदाताओं की मृत्यु और कुछ की उम्र की गलत प्रविष्टि पाई गई है. लेकिन अभी भी राज्य में सौ वर्ष से अधिक उम्र के मतदाताओं की संख्या 3,630 है.

सुब्रत साहू ने बताया कि राज्य में कुल 90 विधानसभा क्षेत्र हैं, जिनमें से 51 सीट सामान्य हैं जबकि, 10 अनुसूचित जाति के लिए और 29 अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित सीट हैं. उन्होंने बताया कि राज्य में वर्तमान में एक करोड़, 81 लाख, 52 हजार 143 मतदाता हैं. जिनमें से पुरूष मतदाताओं की संख्या 91 लाख, 34 हजार, 816 तथा महिला मतदाताओं की संख्या 90 लाख, 16 हजार 517 है. वहीं, 810 ट्रांसजेंडर मतदाता हैं.

हिंदू के बलबूते भाजपा है, भाजपा के बलबूते हिंदू नहीं: तोगड़िया

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि राज्य में मतदाता सूची का द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 31 जुलाई से प्रारंभ होगा जो 21 अगस्त तक चलेगा. वहीं मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 27 सितंबर को किया जाएगा. इस सूची के आधार पर विधानसभा चुनाव होगा. सुब्रत साहू ने बताया कि राज्य में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से निर्वाचन होगा. साथ ही वोटर वेरिफिएबल पेपर आडिट ट्रेल का भी उपयोग किया जाएगा. मशीनों से छेड़छाड़ के सवाल के जवाब में साहू ने बताया कि मशीनों से छेड़छाड़ या हैकिंग संभव नहीं है. इससे किसी भी प्रकार से डाटा का ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है.