प्रदेश के परिवहन आयुक्त पी. गुरु प्रसाद ने बताया कि उन्होंने परिवहन, यातायात, लोक निर्माण, स्वास्थ्य, स्थानीय निकाय, यूपीडा व एनएचआई विभाग के अधिकारियों को सड़क सुरक्षा पर कार्ययोजना बनाकर शीघ्र प्रस्तुत करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा नियमों का पूर्णत: पालन करके ही सड़क दुर्घटनाओं और इससे होने वाली मौत को रोका जा सकता है. उन्होंने निर्देशित किया है कि इस दौरान प्रत्येक बस, आटो, टैम्पों व आरटीओ कार्यालय में भी सड़क सुरक्षा नियमों को प्रदर्शित करने वाला फ्लैस बोर्ड लगाए जाए.

29 अप्रैल तक चलेगा अभियान 

परिवहन आयुक्‍त पी. गुरु प्रसाद ने बताया कि आज से 29 अप्रैल के बीच होने वाले सड़क सुरक्षा सप्ताह के पहले दिन जिला व मण्डल स्तर पर आयोजित होने वाले कार्यशाला के साथ ही इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में भी बड़ी कार्यशाला का आयोजन होगा. 24 अप्रैल को विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राएं, एनसीसी, एनएसएस, स्काउट व एनजीओ के सहयोग से जागरूकता फैलाने के लिए पैदल मार्च निकाला जायेगा. 25 अप्रैल को हेलमेट एवं सीट बेल्ट लगाने के लिए लोगों को जागरूक किया जायेगा. साथ ही यातायात नियमों का पालन न करने वालों के विरूद्ध चेकिंग भी की जायेगी.

जाली पासपोर्ट पर यात्रा व मारपीट करने वाला जर्मन नागरिक पुलिस कस्‍टडी से फरार

सड़क सुरक्षा को लेकर बांटेंगे पेंसिल

इसी प्रकार 26 अप्रैल को विद्यार्थियों को सड़क सुरक्षा नियमों के प्रति जागरूक किया जायेगा और बच्चों को ‘सड़क सुरक्षा, जीवन रक्षा अंकित पेंसिल भी वितरित की जायेगी. 27 अप्रैल को टैम्पों, आटों, ई-रिक्शा, बस व ट्रक चालकों की कार्यशाला होगी. वहीं 28 अप्रैल को जिला न्यायाधीश के माध्यम से बार ऐसोसिएशन के पदाधिकारियों व वकीलों की संगोष्ठी आयोजित की जायेगी और बच्चों की साइकिल रैली भी निकाली जायेगी. अन्तिम दिन 29 अप्रैल को लड़कियों की स्कूटी रैली निकाली जायेगी और शाम को सड़क दुर्घटना में मृत व्यक्तियों की स्मृति में उनके परिवार को बुलाकर कैंडल प्रज्‍जवलित किया जायेगा.