मोदी सरकार के इस प्रोग्राम से 20 लाख लोगों को मिलेगी ट्रेनिंग

- in करियर

पिछले कुछ सालों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस या AI ने जॉब करने वाले लोगों में एक डर पैदा कर दिया है। यह डर जाहिर तौर से नौकरी जाने का है। बहरत में काफी समय से यह खबरें चल रही हैं की आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आने के बाद लोगों की नौकरियां छीन जाएंगी। इस खबर के पीछे कई पुख्ता कारण भी हैं।

मोदी सरकार के इस प्रोग्राम से 20 लाख लोगों को मिलेगी ट्रेनिंग

पीएम ने AI को बताया नई उम्मीद

हालांकि पीएम मोदी ने AI को भारतीयों के लिए एक नई उम्मीद के तौर पर विश्लेषित किया है। इसी के साथ उन्होंने एक बड़ा एजुकेशनल प्रोग्राम भी लॉन्च किया है। इस प्रोग्राम के तहत NASSCOM (नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एन्ड सर्विसेज कम्पनीज) 20 लाख भारतीयों को भविष्य में आने वाली टेक्नोलॉजीज के सन्दर्भ में ट्रेनिंग देगी। इसमें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स समेत कई विषय सम्मिलित हैं। इस प्रोग्राम का नाम है 

पीएम ने बताया AI को भविष्य में किस तरह देखें

– मुंबई कलीना कैंपस में वाधवानी इंस्टीट्यूट ऑफ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस लॉन्च करते समय मोदी ने AI को सभी भारतीयों के लिए एक नई उम्मीद बताया। उनके अनुसार AI परेशानियों का बेहतर तरीके से हल निकलने के साथ-साथ प्रोडक्टिविटी को बढ़ने के भी काम आएगा।

– उन्होंने भारतीयों को इससे डरने के बजाय इसे बेहतर जिंदगी हासिल करने के एक जरिए की तरह इस्तेमाल करने को कहा।

– उन्होंने कहा की जब भी कोई विध्वंसक टेक्नोलॉजी आती है जो जाहिर तौर से लोगों को इससे डर लगता है और यह बहुत आम है। हर स्तर पर आई टेक्नोलॉजी ने लोगों के मन में ऐसी आशंकाएं पैदा की है। लेकिन हर नई टेक्नोलॉजी हमें दो रास्ते दिखाती है। पहला, वो उम्मीदें और आकांक्षाएं पैदा करती है और दूसरा, वो डर और विघटन पैदा करती है।

पीएम मोदी का सीएम योगी से सवाल, महाराष्ट्र से पहले यूपी को बना पाएगे ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी?

– पीएम मोदी ने याद दिलाया की प्राचीन भारतीय दर्शन ने विज्ञान और आध्यात्मिकता को जोड़ा है और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस भी इसी सोच का विस्तार है।

– उन्होंने कहा- ”मुझे यजुर्वेद से ज्ञान सूक्त की याद आ रही है”

Nasscom 20 लाख भारतीयों को देगा ट्रेनिंग

पीएम मोदी ने फ्यूचरस्किल्स एजुकेशनल प्रोग्राम भी पेश किया। इसके अंतर्गत Nasscom 20 लाख भारतीयों को प्रशिक्षित करेगा। इसमें फ्यूचर टेक्नोलॉजीज के 6 मुख्य ज्ञान क्षेत्र सम्मिलित होंगे। इन 6 क्षेत्रों में वर्चुअल रियलिटी, रोबोटिक प्रोसेस ऑटोमेशन, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, 3D प्रिंटिंग, क्लाउड कंप्यूटिंग, सोशल और मोबाइल सम्मिलित होंगे।

Nasscom ने अपने बयान में- ”2 मिलियन टेक्नोलॉजी प्रोफेशनल्स को बेहतर करने और अतिरिक्त 2 मिलियन कर्मचारियों और स्टूडेंटस को आने वाले कुछ सालों में प्रशिक्षित करने की बात कही है।”

You may also like

स्नातकों के लिए अच्छी खबर, यहां हैं सरकारी नौकरी पाने के सुनहरे मौके

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर में 06 पदों