बिहार के इस जिले में कागज पर ही बन गई चार सड़कें, जब हुआ खुलासा तो मचा हंगामा

- in बिहार, राज्य

पटना । सीतामढ़ी जिले के डुमरा प्रखंड की रसलपुर पंचायत में चार सड़कें बनने से पहले गायब हो गईं, इसे लेकर ग्रामीणों ने जमकर हंगामा मचाया है। दरअसल, सड़कों का निर्माण कार्य हुआ नहीं और लाखों की राशि निकाल ली गई और कागज पर ही सड़कों का निर्माण कर दिया गया।

बिहार के इस जिले में कागज पर ही बन गई चार सड़कें, जब हुआ खुलासा तो मचा हंगामाजब ये बात ग्रामीणों को पता चला तो उन्होंने हंगामा मचाया और नारेबाजी की। इस गबन का आरोप पूर्व मुखिया, पंचायत सचिव व कनीय अभियंता पर लगा है। ग्रामीणों की शिकायत पर जिला पंचायती राज पदाधिकारी ने पंचायत सचिव को अभिलेखों के साथ कार्यालय में तलब किया है।

 

गणपति कुमार पटेल और नौ वार्ड सदस्यों की शिकायत है कि पंचायत की चार सड़कों को पीसीसी किया जाना था। इसके लिए शिलापट्ट लगे और कार्य शुभारंभ की घोषणा की गई। लाखों की राशि निकासी कर ली गई। लेकिन, अब तक उन सड़कों की ढलाई नहीं की जा सकी है।

जिला पंचायती राज पदाधिकारी को दिए आवेदन के मुताबिक, 14वेंं वित्त आयोग मद से संजय के घर से कपाली मठ तक पीसीसी कार्य की राशि 7,15000 रुपये। 14वें वित्त आयोग मद से ही जगदीश ठाकुर के घर तक की योजना सं. 7/15 की राशि 3,72000 रुपये। 14वें वित्त आयोग मद से दिनेश सिंह के घर से रामलला सिंह के घर तक पीसीसी कार्य।

धनंजय साह के घर से विफई के घर तक मिट्टी व ईंट सोलिंग का कार्य। मनरेगा अंतर्गत बच्चू सिंह के खेत से श्मशान तक के निर्माण कार्य का 1,6800 रुपये का गबन किया गया है। गबन का आरोप वर्तमान मुखिया संजू देवी के पति पूर्व मुखिया विकाऊ महतो, पंचायत सचिव व कनीय अभियंता पर लगा है।

संचिका के साथ पंचायत सचिव तलब

जिला पंचायती राज पदाधिकारी आलोक कुमार ने मामले को गंभीरता से लिया है। उन्होंने रसलपुर के पंचायत सचिव को वित्तीय वर्ष 2015-16 से 2017-18 तक की योजनाओं की योजना पंजी, उपस्थित पंजी, कार्यकारिणी आमसभा पंजी आदि कागजात व प्रतिवेदन के साथ तलब किया है।

कहा-जिला पंचायती राज पदाधिकारी ने

रसलपुर पंचायत में बगैर काम कराए विभिन्न योजनाओं की राशि की निकासी कर गबन किए जाने की शिकायत मिली है। इसके आलोक में बीडीओ डुमरा को जांच कर प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का आदेश दिया गया है। जबकि, रसलपुर के पंचायत सचिव को कागजात के साथ हाजिर होने का आदेश दिया गया है। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा, सख्त कार्रवाई की जाएगी।

आलोक कुमार, जिला पंचायती राज पदाधिकारी, सीतामढ़ी।

You may also like

यूपी: बहराइच में अब तक 70 से अधिक बच्चों की मौत, देखने पहुंचे डॉ. कफील खान अरेस्ट

उत्तर प्रदेश के बहराइच में संक्रमण के साथ