इस बच्ची ने अपने पापा से बचने के लिए पुलिस से लगाई गुहार

- in अपराध

भागलपुर। एक ओर जहां सरकार बेटियों को पढ़ाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है, लोग ‘बेटी पढ़ाओ- बेटी बचाओ’ अभियान में लगे हैं, वहीं, एक पिता अपनी 12 साल की होनहार बेटी की जान का दुश्मन बना हुआ है। बच्ची ने पुलिस को आवेदन देकर रक्षा की गुहार लगाई है। पिता के खौफ से सहमी बच्ची फिलहाल शहर के एक वार्ड पार्षद के घर में सुरक्षित है।इस बच्ची ने अपने पापा से बचने के लिए पुलिस से लगाई गुहार

भागलपुर के कॉर्मल स्कूल की कक्षा छह की एक छात्रा ने बताया कि अरवल जिले के अहियारपुर निवासी उसके पिता विकास कुमार ने उसके जन्म के बाद ही मां सीमा रानी और उसे घर से निकाल दिया था। उस वक्त पिता ने मारपीट भी की थी। मां का कसूर बस इतना था कि उसने बेटे को नहीं जन्म नहीं दिया। इसके बाद मां ने दूसरी शादी बांका जिले के कटोरिया में कर ली। दूसरे पिता से भी मां को एक बेटी है। बताया कि उसके अपने दूसरे पिता से बेहतर संबंध है और वे बराबर मिलने भी आते हैं।

लड़की ने बताया कि वह तिलकामांझी में रहकर नाना प्रेमचंद्र और नानी के यहां रहकर पढ़ाई करती है। 11 अप्रैल को उसके पिता विकास कुमार की मुलाकात नाना से तिलकामांझी हटिया रोड में हुई। जब नाना ने आने की वजह पूछी तो उसने दोस्त के यहां आने की बात कही। उस दिन जब वह छुट्टी के बाद स्कूल से बाहर निकली तो पिता कुछ लोगों के साथ उसे घूर रहे थे। इसके बाद वह घर भी आ गए।

लड़की के अनुसार अगले दिन भी पिता विकास कुमार जबरन नाना के घर उसकी हत्‍या की नीयत से पहुंचे। इस बीच नाना ने शोर मचाकर मोहल्ले के लोगों को बुला लिया। फिर स्‍थानीय वार्ड पार्षद के आने के बाद पिता भाग निकले। लड़की ने बताया कि उसे हाल ही में चित्रांकन प्रतियोगिता के लिए राज्य स्तर पर सम्मानित किया गया है। स्कूल में देश स्तर पर आयोजित प्रतियोगिता में वह अव्वल रही है। मोहल्‍ले के लोगों ने भी लड़की को लेकर सहानुभूति जताई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

प्रेमिका को फंसाने के लिए युवक ने ले ली दोस्त की जान, जाने पूरा मामला

यूपी के आजमगढ़ में एक युवक ने अपनी