बड़ी खुशखबरी: अगले 5 सालों में यह सेक्टर देगा एक करोड़ से ज्यादा लोगों को नौकरी

नोटबंदी के बाद पड़ा नौकर‍ियों का सूखा अब खत्म होने वाला है. टेलीकॉम सेक्टर में अगले 5 सालों के भीतर 1 करोड़ से ज्यादा नौकरियां तैयार होने वाली हैं. अभी करीब 40 लाख लोग इस सेक्टर में काम कर रहे हैं. यह संख्या आने वाले 5 सालों में तकरीबन 1.43 करोड़ तक पहुंच जाएंगी.

Loading...

बड़ी खुशखबरी: अगले 5 सालों में यह सेक्टर देगा एक करोड़ से ज्यादा लोगों को नौकरीटेलीकॉम क्षेत्र की संस्था टेलीकॉम सेक्टर स्कि‍ल काउंसिल (टीएसएससी) ने एक रिपोर्ट जारी की है. रिपोर्ट के मुताबिक अगले 5 सालों में टेलीकॉम सेक्टर में  1 करोड़ से ज्यादा नौकरियां मिल सकती हैं. टीएसएससी के सीईओ एसपी कोच्चर के मुताबिक टेलीकॉम सेक्टर में अभी करीब 40 लाख लोग काम कर रहे हैं. यह संख्या आने वाले 5 सालों में करीब 1.43 करोड़ तक पहुंच जाएगी.

उन्होंने कहा कि पिछले दो सालों के भीतर लिए गए कुछ फैसलों की वजह से 40 हजार लोगों की नौकरी चली गई थी. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि छटनी का दौर आगे भी जारी रह सकता है. इससे यह संख्या बढ़कर 80-90 हजार तक पहुंच सकती है.

टीएसएससी के सीईओ एसपी कोच्चर ने कहा कि आने वाले दिनों में जिन वर्गों से डिमांड आएगी, इसमें इमर्जिंग टेक्नोलॉजी मसलन मशीन टु मशीन कम्युनिकेशंस, टेलीकॉम मैन्युफैक्चरिंग , इंफ्रा और सर्विसेज जैसे सेक्टर शामिल होंगे. आने वाले दिनों में देश में मैन्युफैक्चरिंग गतिविधि बढ़ने का अनुमान है. इसका सीधा-सीधा फयदा टेलीकॉम सेक्टर को मिलेगा. कोच्चर ने कहा कि टेलीकॉम सेक्टर में रोजगार के मौके पैदा करने की सबसे ज्यादा क्षमता है.

हाल ही में सरकार ने टेलीकॉम सेक्टर को राहत पैकेज जारी किया था. इससे टेलीकॉम सेक्टर पर आया दबाव काफी कम हुआ है. टेलीकॉम सेक्टर में रिलायंस जियो की एंट्री से डेटा वार शुरू हो गया. कंपनियों ने स्पर्धा में बने रहने के लिए जहां डाटा पैक्स की काफी ज्यादा कीमतें घटा दीं, वहीं इसकी वजह से उन्हें अपने राजस्व का नुकसान उठाना पड़ रहा है.ऐसे वक्त में जब टेलीकॉम सेक्टर दबाव से उभरने की कोश‍िश कर रहा है,  उस वक्त में टेलीकॉम सेक्टर स्कील काउंसिल (टीएसएससी ) की यह रिपोर्ट टेलीकॉम सेक्टर के साथ ही आम लोगों के लिए बड़ी राहत बनकर आई है.

Loading...
loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com