…तो इस जगह पर ट्रंप-किम की होगी मुलाकात, टिकी दुनिया की निगाहें

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन की मुलाकात की जगह और दिन के बाद अब वक्त भी मुकर्रर हो गया है. दोनों नेता सिंगापुर के समय के अनुसार सुबह नौ बजे मिलेंगे. इस मुलाकात पर पूरी दुनिया की नजरें टिकी हुई हैं....तो इस जगह पर ट्रंप-किम की होगी मुलाकात, टिकी दुनिया की निगाहें

व्हाइट हाउस ने किया ऐलान

व्हाइट हाउस ने इस मुलाकात के समय का ऐलान करते हुए कहा कि 12 जून को स्थानीय समय के अनुसार सुबह 9 बजे दोनों नेता मिलेंगे. प्रेस सचिव सारा सैंडर्स ने बैठक के समय की घोषणा करते हुए कहा कि सिंगापुर में एक टीम तैयारियों को अंतिम रूप दे रही है. वार्ता शुरू होने तक यह टीम वहीं रहेगी. उन्होंने कहा कि ट्रंप बैठक से पहले उत्तर कोरिया पर प्रतिदिन राष्ट्रीय सुरक्षा ब्रीफिंग ले रहे हैं.

मंडराते रहे हैं संकट के बादल

जब से यह मुलाकात तय हुई है, तभी से इस पर संकट के बादल मंडरा रहे थे. एक समय को ट्रंप ने मुलाकात रद्द भी कर दी थी. इससे दोनों की मुलाकात की आस लगाए बैठी पूरी दुनिया को झटका लगा था. इसकी कई देशों ने कड़ी आलोचना भी की थी. हालांकि उत्तर कोरिया ने संयम से काम लिया और इस मुलाकात को बहाल करने के लिए कूटनीतिक वार्ता शुरू की.

पहली बार मिलेंगे ट्रंप-किम

उत्तर कोरिया के रुख को देखते हुए ट्रंप फिर से इस मुलाकात के लिए राजी हो गए. अब दोनों नेता पूर्व निर्धारित समय और स्थान पर ही मुलाकात करेंगे यानी ट्रंप और किम की मुलाकात सिंगापुर में 12 जून को सुबह 9 बजे होनी तय है. यह पहली बार होगा, जब दोनों नेता एक-दूसरे से मुलाकात करेंगे.

ट्रंप को किम ने खत भेजा था

व्हाइट हाउस में उत्तर कोरिया के वरिष्ठ अधिकारी किम योंग चोल से मिलने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसकी पुष्टि पहले ही कर चुके हैं. बताया जा रहा है कि उत्तर कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जोंग उन ने अपने करीबी किम योंग चोल के जरिए ट्रंप को एक खत भेजा था, जिसको पढ़ते ही वो किम से सिंगापुर में पूर्व निर्धारित समय पर मिलने को राजी हो गए.

बैठक में सकारात्मक परिणाम की उम्मीद

ट्रंप ने कहा कि मैं 12 जून को सिंगापुर की यात्रा करूंगा. संबंध बन रहे है. यह एक शुरुआत होगी. मैंने यह कभी नहीं कहा कि यह एक बैठक में होगा. मुझे लगता है कि एक बैठक में हमारे पास बहुत सकारात्मक परिणाम होंगे.’ अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा,‘बड़ी बात 12 जून को होगी. प्रक्रिया 12 जून को सिंगापुर में शुरू होगी.’

किम के होटल का खर्च कौन उठाएगा

सब कुछ तय होने के बाद अब इस मुलाकात की तैयारियां जोरों पर की जा रही हैं. लेकिन इस बीच अमेरिकी अधिकारी इस समस्या का समाधान करने में लगे हुए हैं कि सिंगापुर में किम जोंग के प्रतिनिधिमंडल का होटल खर्च कौन उठाएगा.

चार लाख रुपए है एक रात का खर्च

द वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, उत्तर कोरिया की अर्थव्यवस्था कड़े प्रतिबंधों की वजह से कमजोर हो गई है. उत्तर कोरिया को जरूरत है कि सिंगापुर में फुलर्टन होटल में उनका खर्च कोई अन्य देश उठाए. इस होटल में एक प्रेजिडेंशियल सुइट की कीमत प्रतिरात 6,000 डॉलर (करीब 4 लाख रुपये) से अधिक है.

सिंगापुर सरकार होटल का कर सकती है भुगतान

रिपोर्ट के मुताबिक, यह मुद्दा व्हाइट हाउस के डिप्टी चीफ ऑफ स्टाफ जो हैगिन और किम जोंग उन के चीफ ऑफ स्टाफ किम चांग सन के बीच अहम है. अमेरिका मेजबान देश सिंगापुर से उत्तर कोरिया के प्रतिनिधिमंडल का खर्च का भुगतान करने पर विचार कर रहा है. अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता हीथर नॉअर्ट ने शनिवार को इस संभावना से इनकार नहीं किया कि अमेरिका सिंगापुर के होटल में उत्तर कोरियाई प्रतिनिधिमंडल के खर्च का भुगतान करने के लिए सिंगापुर सरकार से कहेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मलेशिया में अवैध शराब के सेवन से 21 लोगों की हुई मौत, कई बीमार

मलेशिया में अवैध शराब के सेवन से कम