सुखोई-30 एमकेआई नासिक में हुआ क्रैश, दोनो पायलट सुरक्षित

- in राष्ट्रीय

महाराष्ट्र के नासिक में एक सुखोई फायटर जेट क्रैश हुआ है। इस हादसे में जेट के दोनों ही पायलट सुरक्षित बच निकले हैं। हादसा इतनी भीषण था कि एयरक्राफ्ट का मलबा दूर तक बिखर गया।

जानकारी के अनुसार सुखोई एसयू-30 एमकेआई अंडर प्रोडक्शन एयरक्राफ्ट था और टेस्ट फ्लाइट पर था। माना जा रहा है कि यह विमान किसी तकनीकी खामी के चलते क्रैश हुआ है। हालांकि, फिलहाल इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है और घटना के असल कारणों का जांच के बाद ही खुलासा होगा।

बता दें कि सुखोई एसयू-30 एमकेआई काफी हैवी, हर मौसम में उड़ने में सक्षम एयरक्राफ्ट है। इस एयरक्राफ्ट का निर्माण 2000 में रूस के साथ हुए समझौते के बाद शुरू हुआ था जिसके तहत 140 एयरक्राफ्ट का निर्माण किया जाना है।

AK-47 लेकर फरार हुआ पुलिसकर्मी हिजबुल मुजाहिदीन में हुआ शामिल

आपको बता दें कि इस महीने भारतीय वायुसेना के विमान दुर्घटना की ये दूसरी खबर है। जून महीने के शुरुआत में गुजरात में कच्छ के मुंद्रा जिले में एक भारतीय वायुसेना का जगुआर लड़ाकू जेट विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। पिछले साल मई में चीन की सीमा रेखा के पास एक सुखोई जेट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जिसमें सवार दोनों पायलटों की मौत हो गई थी। माना जा रहा था कि विमान में तकनीकी समस्या आ जाने के कारण उन्हें विमान के संचालन में परेशानी आ रही थी, जिसके परिणामस्वरूप जेट दुर्घटनाग्रस्त हो गया औऱ उन दोनों की मौत हो गई। इससे पहले 2015 में, सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान मध्य असम के नागाओन जिले के लाकोहोआ बोरोरिमारी गांव में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। इस दुर्घटना में पायलट और सह-पायलट दोनों को सुरक्षित रूप से बाहर निकाल लिया गया था। गौरतलब है कि, सुखोई सु-30 एक रूसी निर्मित, दो इंजन वाला सैन्य विमान है जो हर मौसम में सफलतापूर्वक सैन्य मिशन में काम आता है। 1990 के उत्तरार्ध में सु-30 विमानों में से पहला आईएएफ द्वारा शामिल किया गया था। आंकड़ों के मुताबिक, तब से अब तक कम से कम छह ऐसी दुर्घटनाएं हुई हैं। इनकी जांच में ज्यादातर तकनीकी विफलता का संकेत मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

सड़क पर चलना हो जाएगा महंगा, पेट्रोल के बाद 14% तक चढ़ सकते हैं CNG के दाम!

सड़क पर चलने वालों के लिए बुरी खबर है.