जमीन घोटाले में रॉबर्ट वाड्रा की बढ़ी मुश्किलें, CM ने जल्द कार्रवाई के दिए संकेत

- in दिल्ली

जमीन घोटाला मामले में एक बार फिर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा एवं सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा की मुश्किलें बढ़ गई हैं। दोनों के खिलाफ खेड़की दौला थाने में मामला दर्ज किया गया है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने रविवार को मीडिया से बात करते हुए मामले में जल्द कार्रवाई के संकेत दिए हैं।

इस पर हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने कहा कि हम भ्रष्ट्राचार के खिलाफ पहले दिन से लड़ाई लड़ रहे हैं। सीबीआइ और विजिलेंस में कई मामले पहले से दर्ज है। गुरुग्राम के खेड़की दौला थाना में अब एक और मामला दर्ज हुआ है। हालांकि ये मामला पुराना है। पुलिस जांच कर रही है। जो दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ढींगरा आयोग ने भी डीएलएफ वाड्रा मामले की जांच की थी, आयोग की रिपोर्ट पर हाई कोर्ट से स्टे है। स्टे हटने के बाद ढींगरा आयोग की रिपोर्ट के आधार पर भी कार्रवाई होगी।

हुड्डा पर वाड्रा का निजी प्रभाव था
रॉबर्ट वाड्रा और अन्य पर यह एफआइआर भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 120B, 467, 468 और 471 के तहत दर्ज की गई है। एफआइआर सुरेंद्र शर्मा नाम के शख्स ने दर्ज करवाई है। इस एफआइआर में शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि कुछ अफसरों द्वारा बड़े नेताओं और कुछ खास लोगों को फायदा पहुंचाने की कोशिश की गई थी। साथ ही शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में कहा है कि रॉबर्ट वाड्रा सोनिया गांधी के दामाद हैं और जिस वक्त यह घोटाला हुआ उस वक्त भूपेंद्र सिंह हुड्डा की सरकार थी और हुड्डा पर वाड्रा का निजी प्रभाव था।

पाई गई अनियमितता
एफआइआर में कहा गया है कि इस जमीन से दोनों कंपनियों को करीब पांच हजार करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाया गया। इसके अलावा ओंकारेश्वर प्रॉपर्टीज के भी मामले में शामिल होने के आरोप हैं। इसके अलावा इन कंपनियों के जो लाइसेंस दिखाए गए, उनमें भी अनियमितता पाई गई है। इससे पहले रॉबर्ट वाड्रा पर इनकम टैक्स विभाग ने 42 करोड़ रुपये के अज्ञात आय के मामले में नोटिस दिया था। यह मामला स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी से जुड़ा हुआ था. इसमें वाड्रा के पास 99 फीसदी का मालिकाना हक है। 

कांग्रेस ने साधा निशाना 
इस मामले पर रॉबर्ट वाड्रा ने कहा कि यह चुनाव का मौसम है, तेल की कीमत बढ़ रही है लेकिन लोगों के मुद्दों से ध्यान भटकाकर मेरे पुराने मामले पर दिया जा रहा है। इसमें कुछ नया नहीं है। कांग्रेस ने इस मामले को राजनीति से प्रेरित बताया है और कहा कि चुनाव नजदीक है इसलिए इस तरह के केस दर्ज कराए जा रहे हैं।

भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं
भाजपा ने कांग्रेस के आरोप को निराधार बताते हुए वाड्रा पर निशाना साधा। दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने वाड्रा पर हमला करते हुए कहा कि अब लिबरल्स कंफ्यूज हैं कि वह अर्बन नक्सल को बचाएं या जीजा जी को। वहीं भाजपा नेता जवाहर यादव ने कहा कि यह व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है, यह भ्रष्टाचार के खिलाफ उनकी सामूहिक लड़ाई है। राज्य और केंद्र में भाजपा सरकार किसी भी कीमत पर भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं कर सकती है।

राजनीतिक साजिश है एफआइआर
जमीन घोटाला मामले में मुख्यमंत्री मनोहर लाल का बयान आने के बाद रविवार को हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और एफआइआर में रॉबर्ड वाड्रा के साथ आरोपी बनाए गए भूपेंद्र सिंह हुडा ने कहा कि ये केस राजनीतिक साजिश के तहत एक निजी शिकायत पर दर्ज कराया गया है। जनता इस सरकार के मंसूबों को समझ चुकी है। चुनाव नजदी हैं और इस सरकार को हमारे खिलाफ कोई सुबुत नहीं मिला है। ये केवल उनकी झुंझलाहट है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आयुष्मान भारत योजना को लेकर केंद्रीय मंत्री ने केजरीवाल पर साधा निशाना

केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने दिल्ली के मुख्यमंत्री