दक्षिण कश्मीर हिमालय में स्थित अमरनाथ के दर्शन के लिए भगवती नगर आधार शिविर से 63 महिलाओं सहित 454 यात्रियों का एक नया जत्था रवाना हुआ. जम्मू से दो दिन तक यात्रा स्थगित रहने के बाद आज एक बार फिर से यह यात्रा शुरू हो गयी.

अनुच्छेद 35 ए की वैधता को कानूनी चुनौती के खिलाफ अलगाववादियों के दो दिवसीय बंद के कारण रविवार को जम्मू से यात्रा स्थगित कर दी गयी थी. अनुच्छेद 35 ए के तहत जम्मू कश्मीर के लोगों को विशेषाधिकार और सुविधाएं मिली हुयी हैं. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच 11 वाहनों के एक काफिले में आधार शिविर से 454 तीर्थयात्रियों का 36 वां जत्था रवाना हुआ. इस जत्थे में 391 पुरूष और 63 महिलाएं शामिल हैं. अधिकारी ने बताया कि इसके अलावा 30 महिलाओं सहित 230 तीर्थयात्री गंदरबल जिले में कम दूरी वाले 12 किलोमीटर लंबे बालताल मार्ग से जा रहे हैं. इसके अलावा 33 महिलाओं सहित 194 अन्य तीर्थयात्री 36 किलोमीटर लंबे परंपरागत पहलगाम मार्ग से जा रहे हैं.

हरियाणा: आज हड़ताल पर रोडवेज के कर्मचारी, 4000 बसों की थमी रफ्तार

60 दिनों तक चलने वाली अमरनाथ यात्रा 26 अगस्त को होगी समाप्त

पहलगाम से अमरनाथ के लिए जाने वाले तीर्थयात्रियों के जत्थे में 33 साधु भी शामिल हैं. 60 दिनों तक चलने वाली अमरनाथ यात्रा 28 जून को शुरू हुई थी. यह यात्रा 26 अगस्त को समाप्त होगी और संयोग से उसी दिन रक्षाबंधन का त्यौहार भी है. कल शाम तक 2,74,118 तीर्थयात्री अमरनाथ के दर्शन कर चुके हैं. (इनपुट एजेंसी)