रेलवे ने दी खुशखबरी, भर्ती परीक्षाओं में उम्र सीमा में दी छूट

बिहार और केरल में विरोध प्रदर्शनों के बाद रेलवे ने सोमवार को विभिन्न पदों पर नियुक्ति की ऊपरी आयु सीमा में छूट दी और कहा कि बांग्ला और मलयालम सहित क्षेत्रीय भाषाओं में भर्ती परीक्षा लेने का विकल्प उपलब्ध कराया जाएगा. एक बयान में रेलवे ने कहा कि अनारक्षित श्रेणी में सहायक लोको पायलट और लोको पायलट की ऊपरी उम्र सीमा 28 से बढ़ा कर 30 कर दी गई है. इन पदों पर ओबीसी के लिए 31 वर्ष से उम्र सीमा बढ़ाकर 33 कर दी गई है. एससी और एसटी श्रेणी में वर्तमान 33 साल की उम्र को बढ़ा कर 35 साल कर दिया गया है.

रेलवे ने दी खुशखबरी, भर्ती परीक्षाओं में उम्र सीमा में दी छूट

इसी तरह ग्रुप डी परीक्षाओं में अनारक्षित श्रेणी में ऊपरी उम्र 28 से बढ़ा कर 30 कर दी गई है. ओबीसी में ऊपरी उम्र सीमा 34 से बढ़ा कर 36 जबकि एससी एवं एसटी में 36 से बढ़ा कर 38 कर दी गई है. रेलवे भर्ती बोर्ड वेबसाइट के जरिए जनवरी और फरवरी में ऑनलाइन आवेदन मंगाया गया था. इसमें करीब 90,000 विभिन्न पद थे जिसमें ग्रुप सी लेवल (पूर्व में ग्रुप डी) और ग्रुप सी लेवल द्वितीय श्रेणी के पद शामिल हैं. बयान में कहा गया गया है, “यह भी निर्णय लिया गया है कि परीक्षा लेने के लिए अभ्यर्थियों को मलयालम, तमिल, कन्नड, ओडिया, तेलुगू, बांग्ला और अन्य भाषाओं में प्रश्नपत्र उपलब्ध कराया जाएगा.” 

यह योग्यता होनी चाहिए 
ग्रुप सी लेवल वन के पदों पर आवेदन करने वाले उम्मीदवारों को 10वीं पास होना चाहिए. साथ ही उम्मीदवारों का आईटीआई किया होना जरूरी है. वहीं लेवल टू के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों का 10वीं पास होने के साथ साथ आईटीआई, डिप्लोमा और इंजीनियरिंग किया होना भी जरूरी है.

हजारों बेरोजगारों ने आरा स्टेशन के पास लगाया था जाम
गत 16 फरवरी को बिहार के भोजपुर जिला मुख्यालय के आरा रेलवे स्टेशन के पास हजारों बेरोजगार छात्रों ने रेलवे भर्ती बोर्ड की परीक्षा के नियम में बदलाव किए जाने की मांग को लेकर जमकर हंगामा किया था. इस दौरान पुलिस और छात्रों के बीच झड़प भी हुई। छात्रों ने पुलिस पर पथराव किया, जिससे कई पुलिसकर्मियों के घायल हो गए थे. छात्र रेलवे बोर्ड की परीक्षा में उम्र-सीमा में कोई बदलाव नहीं किए जाने और ग्रुप डी की बहाली से ‘टेक्निकल कोर्स’ हटाने की मांग को लेकर आक्रोशित थे और राज्य सरकार व भारत सरकार के खिलाफ नारे लगा रहे थे। इस दौरान गुस्साए छात्रों ने रेल पटरियों को जामकर दिया था.

 

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी