उत्तराखण्ड में कुछ इस अंदाज़ में मनाया गया राहुल का जन्मदिन

नैनीताल: कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का जन्मदिन उत्तराखंड कांग्रेस ने धूमधाम से मनाया। पार्टी कार्यकर्ताओं मे अलग ही अंदाज में राहुल गांधी का जन्मदिन मनाया। एक ओर जहां युवाओं ने रक्तदान किया तो वहीं पार्टी कार्यकर्ताओं राहुल गांधी की फोटो के आगे केक काटा। साथ ही राहुल को 2019 प्रधानमंत्री बनाने का संकल्प लिया गया। उत्तराखण्ड में कुछ इस अंदाज़ में मनाया गया राहुल का जन्मदिन

प्रदेशभर में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का जन्मदिन धूमधाम से मनाया गया। कहीं राहुल गांधी की फोटो के आगे केक काटा गया, तो कहीं कार्यकर्ताओं ने खुद ही उनका केक काटकर उनकी लंबी उम्र की कामना की। राहुल गांधी के जन्मदिन पर कार्यकर्ताओं ने उनके बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया। साथ ही उन्हें प्रधानमंत्री बनाने का भी संकल्प लिया। 

वहीं पिथौरागढ़ में लोनिवि डाक बंगले में पूर्व विधान सभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल ने राहुल गांधी के जन्मदिन पर केक काटा। इस मौके पर उन्होंने कार्यकर्ताओ को निकाय चुनाव और लोक सभा चुनाव के लिए तैयार रहने को कहा।

रक्तदान कर मनाया राहुल गांधी का जन्मदिन 

हल्द्वानी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी का जन्मदिन नए अंदाज में मनाया। महानगर अध्यक्ष राहुल छिमवाल के नेतृत्व में शहर के तमाम कार्यकर्ताओं ने रक्तदान किया। साथ ही संकल्प लिया कि वह हमेशा रक्तदान करते रहेंगे। जब भी किसी मरीज को जरूरत पड़ेगी रक्तदान के लिए करने आएंगे। 

रक्तदाताओं का हौसला बढ़ाने के लिए नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर इंदिरा हृदयेश भी बेस अस्पताल के रक्तदान सेंटर पहुंची। उन्होंने कहा कि राहुल हमारे आदर्श नेता हैं। उनके नेतृत्व में कांग्रेस प्रगति पर है, युवाओं में उत्साह है। इसी उत्साह की वजह से युवा सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। रक्तदान कार्यक्रम भी इसी का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि वो उम्मीद करती हैं कि युवाओं का यह जोश बरकरार रहेगा और आने वाले 2019 में यही युवा कांग्रेस को सत्ता में लाने में अहम भूमिका निभाएंगे। इस दौरान 36 से अधिक युवाओं ने रक्तदान किया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जवानों की हत्या को लेकर केजरीवाल ने PM मोदी से मांगा जवाब

बीएसएफ जवान नरेंद्र सिंह की शहादत के बाद