राहुल गांधी को नहीं मिलेगा VIP ट्रीटमेंट, हमें उनकी शक्ल पसंद नहीं: प्रणव पांड्या

- in राष्ट्रीय

गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ. प्रणव पांड्या ने 2019 चुनावों में भाजपा को समर्थन देने के संकेत दिए हैं. बुधवार को हरिद्वार में उन्होंने कहा, अगर राहुल गांधी उनसे यहां आकर मिलना चाहते हैं तो वह मिल सकते हैं, लेकिन उन्हें यहां पर कोई विशेष ट्रीटमेंट नहीं मिलेगा. कुछ दिनों पहले संपर्क फॉर समर्थन के तहत भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने डॉ. प्रणव पांड्या से मुलाकात की थी. बुधवार को आरएसएस चीफ मोहन भागवत के साथ मीटिंग के बाद उनसे जब राहुल गांधी के साथ मुलाकात के बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने ये जवाब दिया.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, डॉ. प्रणव पांड्या ने कहा, ”अमित शाह की तरह हम उन्हें रिसीव नहीं करेंगे. वह आना चाहते हैं तो आएं. हमें उसकी शक्ल अच्छी नहीं लगती. उन्होंने कहा, हमें कांग्रेस की नीतियां ही पसंद नहीं हैं.” गौरतलब है कि पिछले दिनों उन्होंने केंद्र सरकार की नमामि गंगे योजना पर सवाल उठाए थे. हालांकि इस मामले में केंद्र सरकार से उनका गुस्सा अभी भी कम नहीं हुआ है. उन्होंने कहा, इस मामले में अभी और बहुत कुछ करने की जरूरत है. भाजपा को समर्थन के मुद्दे पर उन्होंने कहा, उन्होंने जो इशारा करना था, कर दिया.

गायत्री परिवार का दावा है कि पूरी दुनिया में उसके फॉलोअर्स की संख्या 15 करोड़ के आसपास है. इसलिए 2019 में कई राजनीतिक दल उनसे समर्थन मांग रहे हैं. रविवार को भाजपा प्रमुख अमित शाह ने उनसे समर्थन के लिए ही मुलाकात की थी. इसके अलावा अमित शाह ने जूना अखाड़ा के स्वामी अवधेशानंद, हरिद्वार में भारत माता मंदिर के संस्थापक स्वामी सत्यामित्रानंद से मुलाकात कर समर्थन मांगा.

इस बार जुलाई में लगेगा सदी का सबसे लंबा चंद्रगहण, कुछ ऐसा होगा चांद का हाल

भारत को महिलाओं के लिए असुरक्षित देश बताए जाने पर उन्होंने कहा, ऐसे हालात बिल्कुल नहीं हैं. उनसे पूछा गया कि अगर अमित शाह की तरह ही कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी शांति कुंज में उनसे मिलने आएंगे तो उनका क्या स्टेंड रहेगा. इस पर डॉ. पांड्या ने कहा, वह जब चाहें यहां आ सकते हैं. यहां काफी लंबी लाइन लगती है. उन्हें कोई वीआईपी ट्रीटमेंट नहीं मिलेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी