पीएम मोदी ने IT मंत्रालय को डाटा लीक रोकने का दिया आदेश

- in राष्ट्रीय

सरकार इस बात का पुख्ता इंतजाम कर रही है, जिससे सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाले भारतीयों की निजी जानकारी का दुरुपयोग न हो सके। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डाटा लीक रोकने के संबंध में इलेक्ट्रॉनिक व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय से हर संभव कदम उठाने को कहा है। मंत्रालय का कहना है कि वह फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका के जवाब का अध्ययन कर रहा है।

सूत्रों के मुताबिक, खुद प्रधानमंत्री चाहते हैं कि जिस प्रकार फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका की तरफ से यूजर्स की व्यक्तिगत जानकारियों का दुरुपयोग किया गया, वैसा दोबारा न हो। बताया जाता है कि पिछले सप्ताह केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद खुद मोदी ने इलेक्ट्रॉनिक व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद से इस संबंध में उचित कदम उठाने को कहा। फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका पर विभिन्ना देशों में लोगों की व्यक्तिगत जानकारी के दुरुपयोग करने का आरोप है। अकेले भारत मे ही 5.62 लाख फेसबुक यूजर्स की जानकारियों के दुरुपयोग होने की आशंका है।

रविशंकर प्रसाद ने सोमवार को अपने मंत्रालय के उच्चाधिकारियों के साथ इस मसले पर बैठक की। मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि फेसबुक और कैंब्रिज एनालिटिका को भेजे नोटिस का जवाब सरकार को मिल चुका है। अब सरकार इस पर विचार कर रही है। हालांकि उन्होंने यह बताने से इन्कार कर दिया कि जवाब में दोनों कंपनियों ने क्या कहा है और अब आगे इस पर क्या कार्रवाई होगी? प्रसाद के नेतृत्व में हुई बैठक में सूचना प्रौद्योगिकी सचिव और इन मामलों को देख रहे संयुक्त सचिव ने हिस्सा लिया।

मच्छर काटने की शिकायत करने पर इंडिगो ने डॉक्टर को प्लेन से उतारा

क्या है आरोप

कैंब्रिज एनालिटिका पर आरोप है कि उसने सोशल नेटवकिर्ग साइट फेसबुक पर एक एप चला कर लोगों की जानकारियां चुरा ली, जिसका बाद में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के चुनाव में इस्तेमाल किया गया। एक ब्रिटिश न्यूज चैनल के स्टिंग ऑपरेशन में ये बात सामने आई कि खास राजनीतिक दल को जीत दिलाने के लिए कैंब्रिज एनालिटिका हर तरह के हथकंडे का इस्तेमाल करती है। चुनाव के वक्त कंपनी सोशल मीडिया पर खास तरह का अभियान भी चलाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी