पटना पहुंचे पीएम, सत्याग्रह शताब्दी के मौके पर देंगे स्वच्छता का संदेश

- in राष्ट्रीय

सत्याग्रह की भूमि चंपारण से मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को स्वच्छता का संदेश देंगे। इसके लिए पीएम मोदी पटना पहुंच गए हैं जहां एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका स्वागत किया। प्रधानमंत्री दिन में 11 बजे मोतिहारी पहुंचेंगे और वहां के गांधी मैदान में दो घंटे रहेंगे। प्रधानमंत्री देश की जनता को संबोधित करेंगे। उसके बाद 13 जिलों के जिलाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। गांधी मैदान को अस्थायी पीएमओ (प्रधानमंत्री कार्यालय) जैसा बना दिया गया है।

कार्यक्रम में देश के विभिन्न राज्यों से आए करीब 20,000 स्वच्छाग्रही उपस्थित रहेंगे। मोदी के साथ मंच पर बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी मौजूद रहेंगे। प्रधानमंत्री के आगमन को देखते हुए मोतिहारी में विशेष इंतजाम किए गए हैं। पूरे शहर में सत्याग्रह से स्वच्छताग्रह के नारे लिखे गए हैं। बैनर-झंडों में भी यही संदेश चारों ओर लगाए गए हैं।

महाराष्ट्र में हुआ भीषण सड़क हादसा, अब तक 17 लोगों की मौत

प्रधानमंत्री गांधी मैदान में बने जिस मंच से समारोह को संबोधित करेंगे उस मंच के दोनों ओर स्वच्छाग्रहियों और अन्य विशेष लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। मंच के सामने के खाली स्थान पर चंपारण सत्याग्रह से जुड़े आंदोलन के सत्याग्रहियों की प्रतिमाएं और बापू का चरखा लगाया गया है। मोतिहारी में इस कार्यक्रम का आयोजन स्वच्छता और पेयजल मंत्रालय की ओर से किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के लिए मंत्रालय ने एक नारा भी दिया है “चलो चंपारण”।

10 अप्रैल को महात्मा गांधी ने शुरू किया था सत्याग्रह

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने सत्याग्रह आंदोलन के लिए 10 अप्रैल, 1917 को ही बिहार आकर आंदोलन की शुरुआत की थी। उस तारीख के 100 साल होने पर 2017 में चंपारण सत्याग्रह शताब्दी समारोह की शुरुआत हुई थी। एक साल तक चले इस समारोह का समापन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किया जाएगा। चंपारण सत्याग्रह शताब्दी समारोह के समापन समारोह को सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह नाम दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

ट्रिपल तलाक पर अध्यादेश लाएगी केंद्र सरकार, कैबिनेट ने दी मंजूरी

नई दिल्ली : देश में तीन तलाक के बढ़ते हुए