पंजाब के जेल में अब आटे की बोरियों के सहारे भेजे जा रहे फोन व नशा

- in पंजाब, राज्य

बठिंडा। पुलिस के तमाम प्रयासों के बावजूद पंजाब की जेलों में मोबाइल फोन का नेटवर्क टूटने का नाम नहीं ले रहा है। आये दिन राज्य की बड़ी जेलों में मोबाइल फोन व नशीले पदार्थ पहुंचने की घटनाएं सामने आती रहती हैं। ताजा मामला बठिंडा जेल का है। यहां राशन के लिए जा रही आटे की बोरियों से 12 मोबाइल फोन व नशीले पदार्थ बरामद हुए।

पुलिस ने बठिंडा की केंद्रीय जेल के कैंटीन इंचार्ज लगाए गए हवालाती व उसको आटे व मोबाइल की सप्लाई देने आए उसके जीजा व उसकी बहन के अलावा जिस ऑटो से आटे की बोरियां लाई गई थी, उसके चालक को भी हिरासत में लिया। मामले की पड़ताल कैंट थाना की पुलिस कर रही है।

बठिंडा जेल में काफी सख्ती होने के बाद भी लगातार गैंगस्टरों व उनके नजदीकियों से मोबाइल फोन मिल रहे थे। इस कारण जेल के अंदर आने वाली हर चीज पर पैनी नजर रखी जा रही थी। इसके चलते ही गार्ड की ओर से जेल में आटे की बोरियां लेकर जाने वाले ऑटो चालक को रोककर तलाशी ली तो आटे की बोरियों में से 12 मोबाइल फोन व बीडियों के 75 बंडल व अन्य नशे बरामद हुए।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार बठिंडा जेल में नशे के केस में बंद हवालाती गुरप्रीत सिंह पुत्र चंचल सिंह निवासी दियालपुरा भाइका को जेल में कंटीन इंचार्ज लगाया हुआ था। उसने अपने जीजा मोगा के गांव माडी मुस्तफा वासी थाना सिंह व बहन जसप्रीत कौर को जेल का राशन लाने के लिए कहा था। इसके चलते दोनों पति पत्नी गुरु नानकपुरा में रहने वाले ऑटो चालक लछमण दास की मदद से आटे की चार बोरियां ऑटो में लेकर जेल में आए थे। इस मामले में जेल प्रबंधन के पास पहले से ही गुप्त सूचना थी। तीनों आरोपितों को हिरासत में ले लिया गया। इसके बाद थाना कैंट पुलिस मौके पर पहुंच गई वह अब मामले की पड़ताल कर रही है।

जेल प्रबंधन के बिना जेल में मोबाइल जाना असंभव: एसएसपी

एसएसपी बठिंडा डॉ. नानक सिंह ने बताया कि जेल के राशन में से बड़ी मात्रा में मोबाइल फोन व नशा बरामद होने बहुत बड़ा मामला है। इसमें जेल अधिकारियों की शमूलियत लगती  है। क्योंकि उनकी मिलीभकत के बिना जेल में कोई भी चीज नहीं जा सकती।  मामले की बारीकी से जांच की जा रही है। अगर किसी भी जेल अधिकारी की इसमें शमूलियत सामने आई तो उसको बख्शा नहीं जाएगा।

मुख्यमंत्री कैप्टन व जेल मंत्री रंधावा को मिल चुकी है जेल से धमकी

फरीदकोट केंद्रीय कारागार में कैद हत्या के एक आरोपी ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो अपलोड कर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को धमकी दी थी। गोविंद सिंह नाम के कैदी ने वीडियो अपलोड करने के लिए किसी अन्य कैदी के मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया। इसमें देखा जा सकता है कि वह मुख्यमंत्री को धमकी दे रहा है। यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसी तरह जेल मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा को भी जेल से धमकी मिल चुकी है।

पिछले साल 1500 मोबाइल फोन जब्त

पंजाब के जेल मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने खुलासा किया था कि 2017 में राज्य की जेलों से 1500 मोबाइल फोन जब्त किए गए। उन्होंने कहा कि इस चलन को रोकने के लिए अतिरिक्त मुख्य सचिव सभी जिला पुलिस प्रमुखों को मोबाइल बरामदगी के मामलों की गहराई से जांच के आदेश दिए गए हैं।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अमृतसर में हादसे वाली जगह पर पुलिस व भीड़ में टकराव के बाद रेल ट्रैक कराया चालू

 यहां अमृतसर-पठानकोट रेल मार्ग को चालू करा दिया