ड्रग्‍स की ऑनलाइन तस्करी करने वाला शख्स हुआ गिरफ्तार

- in अपराध

खासतौर पर अमेरिका और इंग्लैंड में इसकी सप्लाई ज्यादा होती थी. इसके अलावा हंगरी और यूरोप के कई दूसरे देशों में इन प्रतिबंधित दवाइयों को भेजा जाता था.  खास बात ये है कि सारा कारोबार ऑनलाइन होता था.

इसके लिए बाकायदा आरोपी ने गुरुग्राम में एक फार्मास्युटिकल कंपनी भी खोला हुआ था.  इसके साथ-साथ वहां पर उसने एक कॉल सेंटर भी बना रखी थी, जिसके जरिए विदेशों से अपने कस्टमर को संपर्क करता था और उनसे आर्डर लेता था.

अमित ने अपनी 57 वेबसाइट को ऑपरेट करने के लिए बाकायदा 50 से ज़्यादा स्टाफ रखा हुआ था. इसके अलावा कई फर्जी कंपनियां भी खोल रखी थी. वैसे तो यह कंपनियां इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के लिए थीं लेकिन इन्हीं के जरिए भारत से यूरोप तक नशे का कारोबार होता था और विदेशों से पेमेंट ज़ेटक सॉफ्टेक नाम की कंपनी को किया जाता था.

ऐसे पकड़ में आया

दरअसल, बीते 2 अगस्त को NCB ने दिल्ली के फॉरेन पोस्ट ऑफिस से 44 पार्सल बरामद किया था. ये पार्सल अमेरिका और ब्रिटेन जाने वाले थे. इसके बाद NCB गुरुग्राम पहुंची. अमित के कॉल सेंटर और उसकी कंपनी पर छापेमरी कर 22, 410 टैबलेट बरामद किया.

इसमें Diazapam, zolpidam, clonozapam, Nitrezapam, और Tramadol के अलावा और कई दवाइयां शामिल हैं. यह सभी टैबलेट साइको ट्रॉपिक और नारकोटिक मटेरियल वाले हैं जो कि विदेशों में बैन हैं. 

गर्लफ्रेंड ने की सगाई, तो घर में घुसकर मारी गोली

भारत में यह दवाइयां पेन किलर एंटी एंग्जायटी, नींद की गोलियों के रूप में इस्तमाल किया जाता है. इनको बाजार से खरीदने के बाद सील हटा दिया जाता था और इनपर हर्बल दवाइयों का टैग लगा कर पार्सल किया जाता था. NCB के मुताबिक अमित साल 2014 इस कारोबार में लगा हुआ है.

बता दें कि अमित IT ग्रेजुएट है और प्रतिबंधित दवाइयों की सप्लाई करके 1 साल में करोड़ों रुपये कमाता है. फिलहाल इसके पास से मिली दवाइयों को जब्त कर लिया गया है और पूरे मामले में जांच की जा रही है. इसके अलावा विदेशी एजेंटों को भी तलाश की जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बेटी से संबंध बनाते देख प्रेमी का प्राइवेट पार्ट काटने वाले पिता और भार्इ हुए अरेस्ट

आप सभी को पता ही होगा कुछ दिन