जम्मू-कश्मीर में सीजफायर का नहीं पड़ा कोई असर, इन 8 हमलों के बाद सरकार भी पसोपेश में

- in राष्ट्रीय

नई दिल्ली: रमजान के महीने में केंद्र सरकार की ओर से सीजफायर  के ऐलान के बाद भी हालत सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं. सीजफायर के एकतरफा फैसले के बाद से पाकिस्तान और आंतकवादियों की ओर से लगातार जारी हैं. गृह मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ें भी इस बात की पुष्टि करते हैं. इस फैसले पर केंद्र की एक माह पुरानी योजना को जारी रखने को लेकर पसोपेश की स्थिति है.जम्मू-कश्मीर में सीजफायर का नहीं पड़ा कोई असर, इन 8 हमलों के बाद सरकार भी पसोपेश में

कुछ सुरक्षा एजेंसियां आतंकवादियों के फिर एकजुट होने सहित इसके नुकसानों की ओर इंगित कर रही हैं तो वहीं गृह मंत्रालय के कुछ अधिकारी सुझाव के साथ इसके समर्थन में हैं कि खुफिया जानकारी आधारित अभियानों को बढ़ाया जाना चाहिए. सुरक्षा एजेंसियों ने बताया कि कार्रवाई स्थगित करने से आतंकवादियों को दोबारा एकजुट होने का मौका मिल गया है.

वे और अधिक मुक्त होकर इधर से उधर घूमे हैं और युवाओं को आतंकवाद में शामिल होने के लिए समझाने में भी कामयाब हुए हैं. अधिकारियों ने यह भी बताया कि बैठक में यह भी बताया गया कि इस दौरान सुरक्षाबलों पर हमले बढ़े हैं.  आज सेना के एक जवान का अपहरण कर लिया गया. इससे उनका हौसला बुलंद हुआ है. हाल में हुई घटनाएं इशारा करती हैं रमजान के पवित्र महीने में भी घाटी में ‘खूनी खेल’ जारी है.

संपादक की हत्या

वरिष्ठ पत्रकार एवं राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी और उनके दो निजी सुरक्षा अधिकारियों (पीएसओ) की आज जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में उनके कार्यालय के बाहर आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। 

आर्मी कैंप पर आतंकी हमला

उत्तरी कश्मीर के बांदीपुरा जिले के हज्जन थाने के पास स्थित सेना के एक शिविर पर आतंकवादियों ने हथगोले फेंके. पुलिस ने कहा कि आतंकवादियों ने रात करीब साढ़े आठ बजे सेना की 30 राष्ट्रीय राइफल्स के शिविर पर अंडरबैरल ग्रेनेड लॉन्चर के जरिये हथगोले फेंके. आतंकवादियों ने दो तरफ से थाने से सटे शिविर पर हथगोले फेंके. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि हमले का ‘‘ असरदार तरीके से ’’ जवाब दिया गया. यह आत्मघाती हमला नहीं था. 

सीआरपीएफ पर हमला

कश्मीर में आतंकवादियों द्वारा किए गए अलग-अलग तीन ग्रेनेड हमलों में सीआरपीएफ के चार जवान और एक महिला समेत दो नागरिक घायल हो गए. श्रीनगर में सुरक्षाबलों पर दो जगहों पर ग्रेनेड हमले की आधिकारिक तौर पर पुष्टि हो गई है. वैसे सूत्रों का कहना है कि चार स्थानों पर सुरक्षाबलों पर हमले हुए हैं.

BSF के 2 जवान शहीद 

3 जून को रात क़रीब सवा एक बजे पाकिस्तान की तरफ़ से बीएसएफ़ की चौकी को निशाना बनाकर गोलाबारी शुरू कर दी गई. इस फ़ायरिंग में बीएसएफ़ के एएसआई एसएन यादव और कॉन्सटेबल बीके यादव गंभीर रूप से घायल हो गए. बाद में इलाज़ के दौरान ये दोनों जवान शहीद हो गए.

बांदीपुरा में हमला

जम्मू कश्मीर के बांदीपोरा जिले के जंगलों में आतंकवादियों ने  शनिवार को सेना के पैदल गश्ती दल पर गोलीबारी की. पुलिस ने बताया कि आतंकवादियों ने बांदीपोरा जिले में रायनार के जंगल में 14 राष्ट्रीय राइफल के पैदल गश्ती दल पर गोलियां चलाई. उस क्षेत्र की घेराबंदी कर दी गई है और आतंकवादियों की तलाश की जा रही है. पुलिस ने बताया कि इस घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है.

सेना के जवान की अगवा कर हत्या

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले से अपहरण किए गए सेना के जवान का शव बरामद हुआ है. राष्ट्रीय रायफल्स में तैनात औरंगजेब का शव गुसू से बरामद किया गया. स्थानीय पुलिस ने बताया कि अपहृत सैनिक का गोलियों से छलनी शव दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के गुसू में मिला. मामले की जांच की जा रही है.

बीएसएफ के चार जवान शहीद

13 जून को जम्मू-कश्मीर के सांबा जिले के चांब्लियाल सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से किये गये सीजफायर उल्लंघन में बीएसएफ यानी सीमा सुरक्षा बल के चार जवान शहीद हो गये. इतना ही नहीं, तीन जवान घायल भी बताये जा रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी