मध्य प्रदेश: कान्हा में ट्रेनिंग कैंप लगाने की तैयारी कर रहे नक्सली

- in मध्यप्रदेश, राज्य

बालाघाट। विस्तार दलम के गठन के साथ एक साल से कान्हा नेशनल पार्क में सक्रिय हुए नक्सली यहां ट्रैनिंग कैंप लगाने की तैयारी कर रहे हैं। यहां विस्थापितों को बरगलाकर नक्सली ग्रामीणों का समर्थन ले रहे हैं। इससे पार्क से लगे गढ़ी थाना क्षेत्र के गांवों में नक्सलियों का मूवमेंट बढ़ता जा रहा है। इन दिनों कान्हा के बफर में तफरीह कर रहे नक्सली कोर जोन में ट्रैनिंग कैंप लगाने की तैयारी कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने एरिया मैपिंग कर ली है।मध्य प्रदेश: कान्हा में ट्रेनिंग कैंप लगाने की तैयारी कर रहे नक्सली

बारिश पूर्व कान्हा पर्यटकों के लिए बंद हो जाता है। इतना ही नहीं यहां बारिश में वन कर्मियों की गश्त भी कम होती है और पुलिस सर्चिंग के लिए आसानी से प्रवेश नहीं कर पाती है, जिसके चलते यहां नक्सली खुद को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। लिहाजा कान्हा का कोर जोन नक्सलियों के लिए सेफ जोन बनता जा रहा है।

नया कॉरीडोर किया तैयार

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले के कबीराम से नक्सली गढ़ी मुक्की होते हुए सूपखार के जंगल से सीधे मंडला की सीमा में प्रवेश कर अपनी तादाद बढ़ा रहे हैं। यहां से उनका टारगेट मंडला, डिंडौरी, अनूपपुर, उमरिया से सीधे सिंगरौली तक रोड मैपिंग करने का है। इसके जरिए इन जंगलों में अपनी ताकत बढ़ाने, ओडिशा, झारखंड व आंध्र से सीधे नई भर्ती कर तादाद बढ़ा रहे हैं।

दो प्लाटूनों के लिए 60 लोगों को दी ट्रैनिंग

कबीराम में दलम विस्तार की कड़ी में तैयार किए दलम में स्पेशल फोर्स के लिए प्लाटून-2 और प्लाटून- 3 जिसमें 25-25 सदस्यों को शामिल किया है। इनमें ज्यादातर युवक-युवितयां 17 से 28 साल के बीच के हैं। इन्हें छत्तीसगढ़ के जंगल में 2016 में अक्टूबर-नवंबर माह में गुरिल्ला ट्रैनिंग देकर फरवरी-मार्च 2017 में जंगलों में उतारा गया है।

नए दलम के लीडर

प्लाटून-2 – इसकी कमान दामा को सौंपी गई है।

प्लाटून-3 – इसकी कमान राकेश को सौंपी गई है।

600 गावों को किया चिन्हित

मंडला, डिंडौरी, अनूपपुर, उमरिया के जंगलों में नक्सलियों ने 500 गांवों को टारगेट में लिया है। इसमें अब तक करीब 400 गांव चिन्हित कर लिए हैं। इन गांवों में नक्सली जहां ठिकाने तलाश में ग्रामीणों का हितैषी बताकर पनाह भी मांग रहे हैं।

इनका कहना है

बालाघाट के जंगल में फोर्स अधिक होने और महाराष्ट्र-छग की बॉर्डर में दबाव बढ़ने से नक्सली कवर्धा-कबीराम से मंडला के रास्ते नए ठिकाने तलाश रहे हैं। सुरक्षा के लिहाज से मंडला में प्रभावित क्षेत्रों के थानों व चौकियों को अलर्ट किया गया है। पुलिस हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। यहां भी सर्चिंग बढ़ा दी गई है। नक्सलियों के 11 सहयोगियों को भी पुलिस ने 10 मई को पकड़ा था, जिनसे अहम जानकारियां जुटाई गई हैं। कान्हा के बफर जोन से लगे इलाकों में जरूर नक्सलियों का मूवमेंट है, कोर की सूचनाएं नहीं मिल रही हैं – जी जनार्दन, अति. पुलिस महानिदेशक बालाघाट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के