10 दिन में बताना होता है

अभी अभी : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सीडब्यूसी का गठन किया, 22 जुलाई को बुलाई बैठक

इस पर तृणमूल कांग्रेस के सौगत राय ने कहा कि नियम के तहत 10 दिनों में इसके बारे में बताना होता है. तब स्पीकर ने कहा कि निश्चित तौर पर वह नियमों के तहत ही काम करेंगी और इस बारे में तिथि और समय की जानकारी 2-3 दिनों में देंगी. संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सरकार अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने को तैयार है और दूध का दूध-पानी का पानी हो जाएगा. हम निश्चत तौर पर विजयी होंगे.

बजट सत्र के दौरान अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया था

तेदेपा सदस्यों ने बजट सत्र के दौरान भी अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया था लेकिन अध्यक्ष ने सदन में व्यवस्था नहीं होने का हवाला देते हुए उसे अस्वीकार कर दिया था. उधर कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खडगे ने कहा कि हमने पहले अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया था और हम बड़ी पार्टी थे, इसलिये इसे रखने का मौका हमें दिया जाना चाहिए था. सदन में कांग्रेस सदस्यों ने इस विषय को जोरदार ढंग से उठाया. उस समय सदन में कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी मौजूद थीं.

स्पीकर ने कहा- नियमों के तहत हुआ काम

इस पर स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा कि हमने नियमों के तहत काम किया है. जिन जिन सदस्यों ने नोटिस दिया था, उन सभी का उल्लेख किया और जिसने सबसे पहले रखा था, उन्हें प्रस्ताव रखने का मौका दिया. उन्होंने कहा कि ‘‘अब किसी ने भी प्रस्ताव रखा, तो रख दिया. यह सब नियमों के तहत ही हुआ.’’