मध्य प्रदेश में गिरे बड़े-बड़े ओले, कई जिलों में फसल हो गई तबाह

- in मध्यप्रदेश, राज्य

मध्य प्रदेश में मौसम कहर बरपा रहा है. बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान हुआ है. बताया जा रहा है कि भोपाल, विदिशा, रायसेन, सिवनी, सागर और टीकमगढ़ के कई इलाकों में ओले गिरे. इसके अलावा खंडवा, देवास समेत कुछ शहरों में बारिश हुई.

मध्य प्रदेश में गिरे बड़े-बड़े ओले, कई जिलों में फसल हो गई तबाहहोशंगाबाद संभाग के 150, बैतूल के 70 और सीहोर के 60 गांवों में ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान हुआ है. बताया जा रहा है कि सबसे ज्यादा नुकसान गेहूं और चने की फसल को हुआ है.

इटारसी और आसपास के 25 किलोमीटर तक के दायरे में चने और बेर के आकार के ओले गिरने की खबर है. इससे खेतों में लगी गेहूं की बालियां आड़ी हो गईं. चने की घेटी जमीन पर झुककर मिट्‌टी में सन गई.

सब्जियां भी हुई बर्बाद…

ओले और बेमौसम बारिश से छोटे किसानों को सबसे ज्यादा नुकसान होने की बात कही जा रही है. कई छोटे किसानों ने गोभी-टमाटर की फसल लगाईं थी, जो चौपट हो गई.कहा जा रहा है कि फसलें तबाह होने की वजह से सब्जियों के दाम बढ़ेंगे.

किसान संगठन ने की सर्वे की मांग…

भारतीय किसान संघ ने हर किसान का तुरंत सर्वे कराने की मांग की है. किसान संघ के सदस्य रवि जाट ने बताया जिन गांवों में किसानों की फसल का नुकसान हुआ है. सभी को तत्काल राहत राशि देने का काम प्रशासन करे. बेमौसम बारिश ने कई लोगों को नुकसान पहुंचाया है.

ट्रॉलियों में ओले रखकर प्रदर्शन

ओलावृष्टि ने किसानों को बर्बादी की कगार पर लाकर खड़ा कर दिया है. तीन सालों से सूखा झेल रहे किसानों ने जैसे-तैसे फसलों की बोवनी की थी. खराब मौसम में चंद मिनटों में ही अन्नदाताओं की मेहनत पर पानी फेर दिया. सागर जिले में तो किसानों ने ट्रॉलियों में ओले रखकर प्रदर्शन किया. महिलाओं और पुरुषों ने सड़क पर बर्बाद फसलें रखकर प्रदर्शन किया. किसानों की मांग है कि उनकी फसलों का सर्वे कराकर जल्द मुआवजा दिलाया जाए.

Loading...

You may also like

जब 8 महीने में छिन गई थी मध्यप्रदेश की पहली महिला मुख्यमंत्री की कुर्सी

मध्यप्रदेश को जब राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री