जस्टिन ट्रूडो ने किया अपने अधिकारी के बयान का समर्थन

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने विवादास्पद बयान देने वाले अपने अधिकारी का समर्थन किया है। कनाडाई अधिकारी ने कहा था कि ट्रूडो की भारत यात्रा को बिगाड़ने के लिए भारत सरकार के अधिकारियों के गुटों ने सिख आतंकी जसपाल अटवाल की मौजूदगी की व्यवस्था की थी। भारत ने बयान को निराधार और अस्वीकार्य बताया है।

अखबार द स्टार के मुताबिक, कनाडा के प्रधानमंत्री ट्रूडो की भारत से वापसी के बाद विपक्षी सांसदों ने इस मामले को लेकर जमकर हंगामा किया। विपक्षी कंजरवेटिव दल के सांसद एंड्रयू शीर ने ट्रूडो से पूछा कि क्या वह वरिष्ठ अधिकारी की साजिश की बात से सहमत हैं। इस पर ट्रूडो ने अधिकारी का समर्थन करते हुए अधिकारी को पेशेवर और गुणवत्ता वाली सलाह देने वाला बताया।

भारत के ‘रुस्तम-2’ ड्रोन से घबराया पाकिस्तान

विपक्षी सांसदों ने अधिकारी के बयान के समर्थन में प्रमाण देने की मांग की। गौरतलब है कि ट्रूडो के भारत दौरे को लेकर कनाडा सरकार के वरिष्ठ अधिकारी ने पिछले हफ्ते कहा था कि अटवाल की मौजूदगी का इंतजाम भारत सरकार के ही कुछ लोगों की ओर से किया गया था। वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक ऐसी विदेशी सरकार के साथ ज्यादा आत्मीय नहीं होने देना चाहते, जो अखंड भारत में विश्वास नहीं रखती।

इस बीच विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि खालिस्तानी आतंकी अटवाल की मुंबई में कनाडाई उच्चायुक्त के कार्यक्रम मौजूदगी और दिल्ली में निमंत्रण से हमारा कोई लेनादेना नहीं है। इस संबंध में कनाडाई अधिकारी का बयान निराधार है। उन्होंने कहा कि कनाडा की संसद में इस मामले को लेकर हंगामे की उन्हें जानकारी है। ट्रूडो की भारत यात्रा के दौरान अटवाल की मौजूदगी और निमंत्रण को लेकर काफी विवाद हुआ था।

You may also like

राफेल डील पर फ्रांसीसी कंपनी ने दिया बड़ा बयान, कहा- सौदे के लिए रिलायंस को हमने चुना

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के बयान के बाद